भारत-चीन के बीच आज होगी मेजर जनरल स्तर की बातचीत, सीमा विवाद पर होगी चर्चा

indian and china
भारत-चीन के बीच आज होगी मेजर जनरल स्तर की बातचीत, सीमा विवाद पर होगी चर्चा

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद को लेकर आज मेजर जनरल स्तर की बातचीत होगी। दरअसल, पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत और चीन के बीच चल रहा गतिरोध खत्म होता नहीं दिख रहा है। दोनों देशों के बीच सैनिकों की वापसी को लेकर जो सहमति बनी थी वह लागू होती नहीं दिख रही है।

Major General Level Talks Will Be Held Between India And China Today Border Dispute Will Be Discussed :

इस बीच भारत और चीन के बीच आज दौलत बेग ओल्डी क्षेत्र में एक बार फिर मेजर जनरल स्तर की वार्ता होने वाली है। भारतीय सेना के सूत्र के मुताबिक इसमें चीन द्वारा लद्दाख सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास डिसएंगेजमेंट प्रक्रिया पर चर्चा होगी।

बता दें कि, इससे पहले रक्षा मंत्रालय ने यह माना था कि बीते पांच मई के बाद चीनी सैनिकों ने गलवान घाटी समेत पूर्वी लद्दाख के कई क्षेत्रों में एलएसी का उल्लघंन किया था। चीनी सैनिक कुगरंग नाला, गोगरा और पैंगोंग लेक के उत्तरी किनारे पर 17-18 मई को घुसे थे।

इसके अलावा उसने बड़ी संख्या में सैनिकों का जमावड़ा किया है। मंत्रालय के मुताबिक एलएसी पर चीनी आक्रामकता में कमी नहीं आई है और सैन्य गतिरोध लंबा खिंचने की आशंका है। वहीं, तनाव घटाने के लिए दोनों पक्षों के बीच कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर वार्ता का दौर लगातार जारी है।

 

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद को लेकर आज मेजर जनरल स्तर की बातचीत होगी। दरअसल, पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत और चीन के बीच चल रहा गतिरोध खत्म होता नहीं दिख रहा है। दोनों देशों के बीच सैनिकों की वापसी को लेकर जो सहमति बनी थी वह लागू होती नहीं दिख रही है। इस बीच भारत और चीन के बीच आज दौलत बेग ओल्डी क्षेत्र में एक बार फिर मेजर जनरल स्तर की वार्ता होने वाली है। भारतीय सेना के सूत्र के मुताबिक इसमें चीन द्वारा लद्दाख सेक्टर में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास डिसएंगेजमेंट प्रक्रिया पर चर्चा होगी। बता दें कि, इससे पहले रक्षा मंत्रालय ने यह माना था कि बीते पांच मई के बाद चीनी सैनिकों ने गलवान घाटी समेत पूर्वी लद्दाख के कई क्षेत्रों में एलएसी का उल्लघंन किया था। चीनी सैनिक कुगरंग नाला, गोगरा और पैंगोंग लेक के उत्तरी किनारे पर 17-18 मई को घुसे थे। इसके अलावा उसने बड़ी संख्या में सैनिकों का जमावड़ा किया है। मंत्रालय के मुताबिक एलएसी पर चीनी आक्रामकता में कमी नहीं आई है और सैन्य गतिरोध लंबा खिंचने की आशंका है। वहीं, तनाव घटाने के लिए दोनों पक्षों के बीच कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर वार्ता का दौर लगातार जारी है।