पूरे देश में धूमधाम से मनाया जा रहा मकर संक्रांति पर्व, संगम तट पर उमड़ा जनसैलाब

makar-sankranti2
पूरे देश में धूमधाम से मनाया जा रहा मकर संक्रांति पर्व, संगम तट पर उमड़ा जनसैलाब

नई दिल्ली। मकर संक्रांति के शुभ उत्सव पर हजारों श्रद्धालुओं ने रविवार को ठंडे मौसम का सामना करते हुए भी हिमाचल प्रदेश की विभिन्न नदियों में डुबकी लगाई। शिमला से 52 किलोमीटर दूर तत्तापानी में सतलुज और कुल्लू जिले में सिखों के पवित्र धर्मस्थल मणिकरण में पार्वती नदी में डुबकी लगाने के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ जुटी।

तत्तापानी और मणिकरण में मुख्य रूप से पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली से भक्त पहुंचे। तत्तापानी के एक पुजारी ने बताया, “हर साल मकर संक्रांति पर 20,000 से अधिक श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद होती है।” लोकप्रिय पर्यटक स्थल मनाली के बाहरी इलाके में स्थित वशिष्ठ मंदिर में भी भक्तों ने डुबकी लगाई। मकर संक्राति का त्योहार गर्म दिनों के आगमन का सूचक है और यह देश के विभिन्न हिस्सों में धार्मिक हर्षोल्लास से मनाया जाता है।

{ यह भी पढ़ें:- एडीएम की जांच टीम को बंधक बनाने वाले सौरभ जैन की पत्नी गिरफ्तार, स्वयं फरार }

खास है यह पर्व-

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार, साल की 12 संक्रांत‌ियों में मकर संक्रांत‌ि का महत्व सबसे ज्यादा है। मकर संक्रांति के द‌िन देव मकर राश‌ि में आते सबसे मकर संक्रांति को खिचड़ी के नाम से भी जाना जाता है। मकर संक्रांति को पश्चिम बंगाल में इसे पौष संक्रांति, तमिलनाडु में पोंगल, असम में बिहू और गुजरात में उत्तरायण के नाम से जाना जाता है।

संगम तट पर उमड़ा जनसैलाब-

{ यह भी पढ़ें:- Hockey Champions Trophy 2018 : भारत ने पाकिस्तान को 4-0 से हराया }

इलाहाबाद में रविवार को मकर संक्राति का पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है। ठंड के बाद भी श्रद्धालु गंगा घाटों पर डुबकी लगाने के लिए पहुंच रहे हैं। वहीं संगम पर स्नान के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। फिलहाल 24 लाख श्रद्धालुओं संगम में डुबकी लगा चुके है।

नई दिल्ली। मकर संक्रांति के शुभ उत्सव पर हजारों श्रद्धालुओं ने रविवार को ठंडे मौसम का सामना करते हुए भी हिमाचल प्रदेश की विभिन्न नदियों में डुबकी लगाई। शिमला से 52 किलोमीटर दूर तत्तापानी में सतलुज और कुल्लू जिले में सिखों के पवित्र धर्मस्थल मणिकरण में पार्वती नदी में डुबकी लगाने के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ जुटी। तत्तापानी और मणिकरण में मुख्य रूप से पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली से भक्त पहुंचे। तत्तापानी के एक पुजारी ने बताया, "हर…
Loading...