1. हिन्दी समाचार
  2. मकर संक्रांति : सीएम योगी आदित्यनाथ ने चढ़ाई गुरु गोरखनाथ को पहली खिचड़ी

मकर संक्रांति : सीएम योगी आदित्यनाथ ने चढ़ाई गुरु गोरखनाथ को पहली खिचड़ी

By बलराम सिंह 
Updated Date

Makar Sankranti Cm Yogi Adityanaths First Slang For Climbing Guru Gorakhnath

लखनऊ। मकर संक्रांति का पर्व पूरे देश में श्रद्धा, भक्ति और हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। भगवान सूर्य देव की उपासना और पावन नदियों में स्नान, दानपुण्य के महापर्व मकर संक्रांति के अवसर पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने प्रदेशवासियों को बधाई दी है।

पढ़ें :- मुख्यमंत्री के दफ्तर के कई कर्मचारी कोरोना संक्रमित, सीएम योगी ने खुद को किया आइसोलेट

गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर में बुधवार सुबह 3:30 बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्रीनाथ जी की विशिष्ट पूजा-आरती की और महारोट के प्रसाद से बाबा गोरखनाथ को भोग लगाया। उसके बाद उन्होंने देश की सुख सुख-समृद्धि की कामना के साथ मंदिर की ओर से बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाई। इसी क्रम में परंपरागत रूप से नेपाल राजपरिवार की ओर से नेपाल राष्ट्र के कल्याण और मंगल कामना के साथ श्रीनाथजी को खिचड़ी अर्पित की गई।

गोरक्ष पीठाधीश्वर ने मकर संक्रान्ति (खिचड़ी) के अवसर पर शिवावतारी महायोगी गुरु श्री गोरक्षनाथ जी को आस्था की पवित्र खिचड़ी चढ़ाने देश विदेश से आए सभी श्रद्धालुजनों का अभिनंदन किया।चार बजे मंदिर के कपाट आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए। कपाट खुलते ही गुरु गोरक्षनाथ और हर-महादेव के जय घोष के साथ श्रद्धालुओं का हुजूम मंदिर परिसर में उमड़ पड़ा।

ठंड और कोहरे के बावजूद श्रद्धालुओं के गोरखनाथ मंदिर पहुंचने का सिलसिला जारी है। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मन्दिर के स्वयंसेवक और पुलिस-प्रशासन के लोग जगह-जगह पर तैनात हैं। मंगलवार की रात से ही खिचड़ी मेले की छटा देखने लायक थी। मेला परिसर देखकर श्रद्धालुओं के उत्साह का अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है। झूले लगातार चल रहे हैं और स्टालों पर भीड़ उमड़ पड़ी है।

आदि काल से चली आ रही मकर संक्रांति के दिन स्नान की खिचड़ी दान करने और लोगों को प्रसाद वितरण की परंपरा बुधवार को एक बार फिर जीवंत हुई। एक ओर जहां परंपरा की खिचड़ी पक रही थी तो दूसरी ओर श्रद्धा के तड़के से उड़ी खुशबू लोगों को अपनी ओर खींच रही थी।

कल से शुरू होंगे शुभ कार्य

कर्मकांड के जानकारों का कहना है कि मंगलवार को रात्रि 2:22 बजे सूर्यदेव मकर राशि में प्रवेश कर गए। इस दिन भगवान सूर्य की पूजा करने से पाप का नाश होता है। लकड़ी, तिल, अन्न, दाल, चावल, पापड़, गुड़, घी नमक और कंबल का दान करने से विशेष पुण्य मिलता है। राशि के अनुसार दान से विशेष पुण्य मिलेगा। इसी के साथ ही एक महीने से खरमास के चलते शादी विवाह जैसे शुभ कार्य फिर से शुरू हो जाएंगे। 16 से सहालग शुरू हो जाएगी।

पढ़ें :- ब्रैडपीट को भाया था भारत का ये प्राचीन शहर, पसंद आई थी साउथ से लेकर नार्थ तक की सभ्यता

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...