जल्द ही ट्रैक पर दौड़ेगी बिना इंजन की ‘ट्रेन-18’, ये हैं खूबियां

train 18
जल्द ही ट्रैक पर दौड़ेगी बिना इंजन की 'ट्रेन-18', ये हैं खूबियां

Make In India Train 18 Ready To Run On Track

नई दिल्ली। रेलवे ने हाई स्पीड ‘ट्रेन-18’ बनकर तैयार हो चुकी है। इस ट्रेन के आगे कोई इंजन नहीं होगा। इस ट्रेन की खासियत यह होगी कि इंजन ट्रेन के आगे नहीं बल्कि हर बोगी के नीचे लगा होगा। यह ट्रेन दो सौ किलोमीटर प्रति घटे की रफ्तार से चलेगी। मेट्रो की तर्ज पर यह दोनों छोर से दौड़ेगी और इसकी स्पीड भी बुलेट की स्पीड से करीब आधी रहेगी।

चैन्ने स्थित इंटिग्रल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) में इस ट्रेन को बनाया गया है। ‘मेक इन इंडिया’ के तहत बनाई गई इस ट्रेन को पहले उत्तर रेलवे में परीक्षण के तौर पर चलाया जाएगा। रेलवे बोर्ड से जुड़े सूत्रों के अनुसार ट्रेन-18 का अगला ट्रायल मुंबई-अहमदाबाद रूट पर किया जाएगा। आईसीएफ के सूत्रों ने बताया कि इस ट्रेन को नवंबर तक उत्तर रेलवे को सौंप दिया जाएगा।

ये होगी खासियत-

ट्रेन-18 में 16 चेयरकार कोच होंगे जिसमें 14 नॉन एग्जीक्यूटिव कोच और 2 एग्जीक्यूटिव कोच होंगे। एग्जीक्यूटिव कोच में 56 यात्री बैठ सकेंगे जबकि नॉन एग्जीक्यूटिव कोच में 78 लोग बैठ सकेंगे। पारंपरिक भारतीय ट्रेनों के इतर टी 18 ट्रेनों में मेट्रो के कोच की तर्ज पर खिड़कियां लगी हैं। इस आधुनिक ट्रेन की खासियत यह है कि आम ट्रेनों से अलग इस ट्रेन 18 के सभी डिब्बे बिना इंजन के चलेंगे।

मेट्रो की तरह इस ट्रेन के दोनों ओर मोटर कोच होंगे और यह दोनों ही दिशा से चल सकेगी। यात्रियों के बैठने के लिए आरामदेह चेयर की व्यवस्था है। चेयर घुमाने की सुविधा भी होगी। कोच में सीसीटीवी, एनाउंसमेंट सिस्टम, वाई फाई सुविधा भी मिलेगी।

रेलवे की कोशिश है कि इस साल के अंत में स्पेशल ट्रेन 18 को दौड़ा दिया जाए। खास बात यह है कि रेलगाड़ी के 16 कोच में मोटराइज्ड इंजन की व्यवस्था की गई है। इससे पूरी ट्रेन एक साथ तेजी से चलेगी और रुकेगी तथा ट्रेन शुरू से लेकर आखिरी तक आपस में जुड़ी होगी।

नई दिल्ली। रेलवे ने हाई स्पीड 'ट्रेन-18' बनकर तैयार हो चुकी है। इस ट्रेन के आगे कोई इंजन नहीं होगा। इस ट्रेन की खासियत यह होगी कि इंजन ट्रेन के आगे नहीं बल्कि हर बोगी के नीचे लगा होगा। यह ट्रेन दो सौ किलोमीटर प्रति घटे की रफ्तार से चलेगी। मेट्रो की तर्ज पर यह दोनों छोर से दौड़ेगी और इसकी स्पीड भी बुलेट की स्पीड से करीब आधी रहेगी। चैन्ने स्थित इंटिग्रल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) में इस ट्रेन को…