माखी कांड: दुष्कर्म पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में चार मार्च को आ सकता है कोर्ट का फैसला

kuldeep senger
माखी कांड: दुष्कर्म पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में चार मार्च को आ सकता है कोर्ट का फैसला

नई दिल्ली। यूपी की राजनीति को हिला देने वाले 2017 के उन्नाव दुष्कर्म कांड में पीड़िता के पिता की कथित हत्या के मामले में शनिवार को दिल्ली की अदालत में सुनवाई हुई। अदालत ने इस मामले में फैसला सुनाने के लिए चार मार्च की तारीख नियत की है। भाजपा के निष्कासित पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर भी इस मामले में आरोपी है।

Makhi Case Courts Decision May Come On March 4 In The Case Of The Murder Of The Rape Victims Father :

कुलदीप सेंगर इस समय तिहाड़ जेल में उम्रकैद की सजा काट रहा है। उल्लेखनीय है कि जिस युवती के साथ दुष्कर्म के दोष में सेंगर जेल की सजा काट रहा है, उसके पिता की 9 अप्रैल, 2018 को न्यायिक हिरासत में मौत हो गई थी।इस मामले की पिछली सुनवाई 20 फरवरी को जिला न्यायाधीश धर्मेश शर्मा की अदालत में बंद कमरे में हुई थी। अदालत ने उसी दिन फैसला सुरक्षित रख लिया था। इसकी तारीख बढ़ाकर चार मार्च कर दी गई है।

पिछली सुनवाई में अदालत ने पीड़िता के चाचा, मां, बहन और उसके पिता के एक सहयोगी के बयान दर्ज किए थे। उन्होंने इस घटना में चश्मदीद गवाह होने का दावा किया था। 2019 में अदालत ने 20 दिसंबर को सेंगर को दुष्कर्म मामले में जीवन भर के लिए जेल में रहने की सजा सुनाई थी। यह पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत से संबंधित दूसरा मामला है, जिसमें चार मार्च को फैसला आ सकता है।

नई दिल्ली। यूपी की राजनीति को हिला देने वाले 2017 के उन्नाव दुष्कर्म कांड में पीड़िता के पिता की कथित हत्या के मामले में शनिवार को दिल्ली की अदालत में सुनवाई हुई। अदालत ने इस मामले में फैसला सुनाने के लिए चार मार्च की तारीख नियत की है। भाजपा के निष्कासित पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर भी इस मामले में आरोपी है। कुलदीप सेंगर इस समय तिहाड़ जेल में उम्रकैद की सजा काट रहा है। उल्लेखनीय है कि जिस युवती के साथ दुष्कर्म के दोष में सेंगर जेल की सजा काट रहा है, उसके पिता की 9 अप्रैल, 2018 को न्यायिक हिरासत में मौत हो गई थी।इस मामले की पिछली सुनवाई 20 फरवरी को जिला न्यायाधीश धर्मेश शर्मा की अदालत में बंद कमरे में हुई थी। अदालत ने उसी दिन फैसला सुरक्षित रख लिया था। इसकी तारीख बढ़ाकर चार मार्च कर दी गई है। पिछली सुनवाई में अदालत ने पीड़िता के चाचा, मां, बहन और उसके पिता के एक सहयोगी के बयान दर्ज किए थे। उन्होंने इस घटना में चश्मदीद गवाह होने का दावा किया था। 2019 में अदालत ने 20 दिसंबर को सेंगर को दुष्कर्म मामले में जीवन भर के लिए जेल में रहने की सजा सुनाई थी। यह पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत से संबंधित दूसरा मामला है, जिसमें चार मार्च को फैसला आ सकता है।