विवाहित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक के कार्यक्रम पर मलेशिया पुलिस ने लगाई रोंक

zakir naik
विवाहित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक के कार्यक्रम पर मलेशिया पुलिस ने लगाई रोंक

नई दिल्ली। विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाईक के एक इस्लामिक कार्यक्रम के संबोधन पर मलेशिया की पुलिस ने रोक लगा दी है। ये कार्यक्रम 18 अगस्त से 26 अगस्त के बीच होना है। वहीं सप्ताह भर पहले जाकिर की तरफ से की गई ‘विवादित टिप्पणी’ को लेकर उससे पूछताछ की जाएगी। इसके लिए उसे समन भी जारी किया गया है।

Malaysia Police Put A Stop On The Program Of Islamic Preacher Zakir Naik :

बता दें कि मलेशिया में रह रहे विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक ने हाल ही हिंदुओ पर विवादित बयान दिया था। जिसको लेकर उसे समन जारी कर पेश होने के आदेश दिए गए हैं। उसने मलेशिया के हिन्दू समुदाय और चीन के उयघुर मुस्लिम समुदाय के खिलाफ विवादास्पद टिप्पणी की थी। वो भारत में आतंकवादी गतिविधियों को उकसाने एवं मनी लॉड्रिंग का भी आरोपी है। उसने कहा था चीनी मलेशियाई लोगों को देश छोड़कर चले जाना चाहिए क्योंकि वे अब देश के पुराने मेहमान हो चुके हैं।

उसने अपने एक बयान में कहा था कि मलेशिया में रहने वाले हिन्दू समुदाय के लोगों के पास भारत में रहने वाले अल्पसंख्यक मुसलमानों की अपेक्षा 100 प्रतिशत ज्यादा अधिकार हैं। मलेशिया के संचार मंत्री गोबिंद सिंह देव और मानव संसाधन मंत्री एम कुलसेगरन ने एक संयुक्त वक्तव्य में कहा, “ हमने अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है और हम चाहते हैं कि जाकिर नाइक को मलेशिया में नहीं रहने दिया जाए।

नई दिल्ली। विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाईक के एक इस्लामिक कार्यक्रम के संबोधन पर मलेशिया की पुलिस ने रोक लगा दी है। ये कार्यक्रम 18 अगस्त से 26 अगस्त के बीच होना है। वहीं सप्ताह भर पहले जाकिर की तरफ से की गई ‘विवादित टिप्पणी’ को लेकर उससे पूछताछ की जाएगी। इसके लिए उसे समन भी जारी किया गया है। बता दें कि मलेशिया में रह रहे विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक ने हाल ही हिंदुओ पर विवादित बयान दिया था। जिसको लेकर उसे समन जारी कर पेश होने के आदेश दिए गए हैं। उसने मलेशिया के हिन्दू समुदाय और चीन के उयघुर मुस्लिम समुदाय के खिलाफ विवादास्पद टिप्पणी की थी। वो भारत में आतंकवादी गतिविधियों को उकसाने एवं मनी लॉड्रिंग का भी आरोपी है। उसने कहा था चीनी मलेशियाई लोगों को देश छोड़कर चले जाना चाहिए क्योंकि वे अब देश के पुराने मेहमान हो चुके हैं। उसने अपने एक बयान में कहा था कि मलेशिया में रहने वाले हिन्दू समुदाय के लोगों के पास भारत में रहने वाले अल्पसंख्यक मुसलमानों की अपेक्षा 100 प्रतिशत ज्यादा अधिकार हैं। मलेशिया के संचार मंत्री गोबिंद सिंह देव और मानव संसाधन मंत्री एम कुलसेगरन ने एक संयुक्त वक्तव्य में कहा, “ हमने अपनी स्थिति स्पष्ट कर दी है और हम चाहते हैं कि जाकिर नाइक को मलेशिया में नहीं रहने दिया जाए।