1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. नंदीग्राम में पोलिंग एजेंट को रोकने के ममता बनर्जी के आरोप गलत: चुनाव आयोग

नंदीग्राम में पोलिंग एजेंट को रोकने के ममता बनर्जी के आरोप गलत: चुनाव आयोग

नाव आयोग ने रविवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की चिट्ठी पर जवाब दिया है। आयोग ने कहा कि नंदीग्राम में वोटिंग के दौरान बाधा नहीं आई थी। टीएमसी का पोलिंग एजेंट बूथ पर आया ही नहीं। आयोग ने आगे कहा कि बूठ पर पोलिंग एजेंट को रोकने की बात गलत है। बूथ पर शांतिपूर्ण मतदान चल रहा था। बूथ में तैनात बीएसएफ के जवानों ने गलत आरोप लगाए गए हैं।

By शिव मौर्या 
Updated Date

कोलकता। चुनाव आयोग ने रविवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की चिट्ठी पर जवाब दिया है। आयोग ने कहा कि नंदीग्राम में वोटिंग के दौरान बाधा नहीं आई थी। टीएमसी का पोलिंग एजेंट बूथ पर आया ही नहीं। आयोग ने आगे कहा कि बूठ पर पोलिंग एजेंट को रोकने की बात गलत है। बूथ पर शांतिपूर्ण मतदान चल रहा था। बूथ में तैनात बीएसएफ के जवानों ने गलत आरोप लगाए गए हैं। चुनाव आयोग ने अपने बयान में कहा कि नंदीग्राम में मतदान केंद्रों पर सुबह 5.30 बजे मतदान केंद्रों पर एक मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया।

पढ़ें :- West Bengal News: पश्चिम बंगाल में  कानून व्यवस्था पर उठ रहे सवाल, आखिर क्यों नहीं रुक रही बम से हमले की घटनाएं?

इसके बाद सुबह सात बजे मतदान शुरू हुआ। आयोग ने यह भी कहा कि इस मॉक ड्रिल के दौरान सभी राजनीतिक दलों के पोलिंग एजेंट मौजूद थे। चुनाव आयोग ने कहा कि यह साबित करने के लिए सीसीटीवी फुटेज उपलब्ध है कि चुनाव में कोई गड़बड़ी नहीं हुई। बता दें कि बंगाल में दूसरे चरण का मतदान एक अप्रैल को हुआ था।

वोटिंग के दौरान ममता बयाल-2 स्थित सात नंबर बूथ में लगभग दो घंटे तक रहीं थीं और वहीं से उन्होंने राज्यपाल जगदीप धनखड़ को फोन किया था। साथ ही मतदान में धांधली का आरोप लगाया था। इसके अलावा उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर चुनाव कार्य में हस्तक्षेप का भी आरोप लगाया था। यहीं नहीं, दीदी ने इस बाबत चुनाव आयोग को एक पत्र भी लिखा था।

 

पढ़ें :- West Bengal : अभिषेक बनर्जी की रैली से पहले ब्लास्ट से दो लोगों की हुई मौत, जांच में जुटी पुलिस
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...