1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. ममता बनर्जी ने मोदी सरकार पर कोरोना वैक्सीन आंबटन में लगाया भेदभाव का आरोप

ममता बनर्जी ने मोदी सरकार पर कोरोना वैक्सीन आंबटन में लगाया भेदभाव का आरोप

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केन्द्र सरकार पर कोरोना वैक्सीन आंबटन में भेदभाव का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि वह भाजपा शासित राज्यों को अधिक वैक्सीन दिए जाने की विरोधी नहीं है, लेकिन कारोना महामारी से निपटने के लिए राज्य को भी पर्याप्त वैक्सीन की आवश्यकता है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केन्द्र सरकार पर कोरोना वैक्सीन आंबटन में भेदभाव का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि वह भाजपा शासित राज्यों को अधिक वैक्सीन दिए जाने की विरोधी नहीं है, लेकिन कारोना महामारी से निपटने के लिए राज्य को भी पर्याप्त वैक्सीन की आवश्यकता है।

पढ़ें :- मेडिकल कोर्सेज में रिजर्वेशन पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, OBC को 27 और EWS को 10 फीसदी मिलेगा आरक्षण

सुश्री बनर्जी ने यहां राज्य सचिवालय नबन्ना में गुरूवार को एक संवाददाता सम्मेलन बुलाया था। जिसमें कहा कि मुझे इस का भरोसा नहीं है कि तीसरी लहर कब राज्य को प्रभावित कर सकती है, लेकिन हमें यह सुनिश्चित करना है कि केन्द्र से पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन दिए जाने पर राज्य के जोखिम वाले तबके को खासतौर पर लगाई जानी है।

उन्होंने कहा कि गुरूवार को एक बार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर और अधिक वैक्सीन दिए जाने का आग्रह किया गया है। सुश्री बनर्जी ने कहा कि हमें 14 करोड़ वैक्सीन की आवश्यकता है, लेकिन अभी तक मात्र 2.12 करोड़ वैक्सीन ही मिली हैं। इस महीने के लिए हमें 75 लाख डोज की जरूरत है लेकिन हमारे पास केवल 25 लाख डोज ही है। मैंने सुना है कि भाजपा शासित कुछ राज्यों जैसे मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश को अधिक वैक्सीन मिली हैं लेकिन मैं इसका भी विरोध नहीं करती हूं कि कुछ राज्यों को क्यों अधिक वैक्सीन दी जा रही हैं। मुझे बस यही कहना है कि हमें भी अपने राज्य के लोगों का इस महामारी से बचाव करना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने प्रधानमंत्री को एक पत्र भेजा है और यह भी नहीं पता है कि इसका क्या जवाब होगा। राज्य में अभी तक ढाई करोड़ लोगों को ही वैक्सीन लगी है और इनमें से 1.8 करोड़ लोगों को पहला डोज लगा है जबकि सत्तर हजार लोगों को दोनों डोज लग चुके हैं।

उन्होंने केन्द्र सरकार की इस बात को लेकर भी आलोचना की कि वह राज्य सरकार के साथ सहयोग नहीं कर रहा है और अभी तक केन्द्र सरकार से उसकी बकाया राशि भी नहीं मिली है। मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार ने काफी धनराशि खर्च की है लेकिन वैक्सीन उपलब्ध नहीं है और जब दूसरे राज्यों को अधिक वैक्सीन दी जा रही है तो हमारे साथ यह भेदभाव क्यों है। जब हमें वैक्सीन ही नहीं मिली तो हम लोगों को कैसे तथा कहां से वैक्सीन लगाएंगे। पिछले सात दिनों से वैक्सीन नहीं मिलने के कारण टीकाकरण अभियान को रोक दिया गया है। मैंने आज भी श्री मोदी को पत्र लिखा है । कुछ संगठनों को राजनीतिक कारणों से अपमानित किया जा रहा है और जब राज्य में कोरोना महामारी नियंत्रण में आ गई है तो भी राजनीतिक कारणों से छवि खराब किए जाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

पढ़ें :- राकेश अस्थाना की नियुक्ति के खिलाफ दिल्ली विधानसभा में प्रस्ताव पास, AAP MLA का केंद्र पर बड़ा आरोप

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...