1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. ममता बनर्जी ने बजट को बताया ‘पेगासस स्पिन Budget’, कहा-बेरोजगारी और महंगाई से आम लोग कुचले जा रहे हैं

ममता बनर्जी ने बजट को बताया ‘पेगासस स्पिन Budget’, कहा-बेरोजगारी और महंगाई से आम लोग कुचले जा रहे हैं

Budget 2022: ​वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को आज आम बजट 2022 पेश किया। इस आम बजट में युवाओं के रोजगार, किसान, व्यापारी, गरीबों को घर, नई ट्रेनों को चलाने समेत कई अन्य बड़े ऐलान किए गए। हालांकि, इस बजट को लेकर विपक्ष मोदी सरकार को घेरने में जुटी हुई। राहुल गांधी, अखिलेश यादव, मायावती समेत अन्य विपक्षी नेताओं ने मोदी सरकार को घेरा है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Budget 2022: ​वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने मंगलवार को आज आम बजट 2022 पेश किया। इस आम बजट में युवाओं के रोजगार, किसान, व्यापारी, गरीबों को घर, नई ट्रेनों को चलाने समेत कई अन्य बड़े ऐलान किए गए। हालांकि, इस बजट को लेकर विपक्ष मोदी सरकार को घेरने में जुटी हुई। राहुल गांधी, अखिलेश यादव, मायावती समेत अन्य विपक्षी नेताओं ने मोदी सरकार को घेरा है।

पढ़ें :- पश्चिम बंगाल में होती है बम की होम डिलीवरी, पुलिस ने एक को किया गिरफ्तार, मिला देसी बमों का पूरा कैटलाग

वहीं, अब पश्चिम बंगाल की मुख्मयंत्री ममता बनर्जी (Chief Minister Mamata Banerjee) ने बड़ा हमला बोला है। उन्होंने इस बजट को पेगासस स्पिन बजट बताया है। वहीं, मायावती ने कहा कि, बजट नए वादों के साथ जनता को लुभाने के लिए लाया गया है। वहीं, ममता बनर्जी ने ट्वीट कर लिखा है कि, ‘बेरोजगारी और महंगाई से कुचले जा रहे आम लोगों के लिए बजट शून्य है। सरकार बड़े शब्दों में खो गई है, जिसका कोई मतलब नहीं है-एक पेगासस स्पिन बजट।’

पुरानी घोषणाओं को भुला दिया: मायावती
वहीं, इस बजट को लेकर मायावती ने मोदी सरकार को घेरा है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि,
संसद में आज पेश केन्द्रीय बजट नए वादों के साथ जनता को लुभाने के लिए लाया गया है, जबकि गतवर्षों के वादों व पुरानी घोषणाओं आदि के अमल को भुला दिया गया है, यह कितना उचित। केन्द्र बढ़ती गरीबी, बेरोजगारी, महंगाई व किसानों की आत्महत्या जैसी गंभीर चिन्ताओं से मुक्त क्यों? इसके साथ ही मायावती ने कहा कि, केन्द्र सरकार द्वारा अपनी पीठ आप थपथपा लेने से अभी तक देश की बात नहीं बन पा रही है। करों की मार लोगों का जीना दुभर किए हुए है। इसीलिए केन्द्र का भरसक प्रयास खासकर बेरोजगारी व असुरक्षा आदि के कारण लोगों में छाई तंगी, मायूसी व हताशा को कम करने की हो तो बेहतर।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...