1. हिन्दी समाचार
  2. लॉकडाउन में फंसा शख्स 25 दिन में 2800 KM का सफर तय करके पंहुचा घर, रास्ते में हुई लूट

लॉकडाउन में फंसा शख्स 25 दिन में 2800 KM का सफर तय करके पंहुचा घर, रास्ते में हुई लूट

Man Trapped In Lockdown Reached Home After Traveling 2800 Km In 25 Days Robbed On The Way

नई दिल्ली। भारत में अचानक हुए देशव्यापी लॉकडाउन की वजह से करोड़ों लोग दूसरे राज्यों में फंस गये थे। इस दौरान सबसे ज्यादा दिक्कत मजदूरों को हुई, क्योंकि वो जहां काम कर रहे थे वहां काम बंद हो गया, मालिकों ने अपने हाथ पीछें खींच लिए तो मजदूरों का कोई सहारा न रहा। ऐसे में उनके पास अपने घर जाने के शिवा और कोई उपाय नही बचा। ऐसा ही एक शख्स असम का रहने वाला मजदूर है जो 46 साल की उम्र में गुजरात से 2800 किलोमीटर की दूरी तय कर असम में अपने घर के पंहुच गये।

पढ़ें :- विश्व के सबसे बड़े पर्यटन क्षेत्र के रूप में उभर रहा है केवड़िया: PM मोदी

असम के नौगांव जिले के रहने वाले 46 साल के जादव गोगोई काम की तलाश में गुजरात पहुंचे थे। वहां वे गुजरात के औद्योगिक नगर वापी में मजदूर का काम करते थे। जब 25 मार्च से लॉकडाउन घोषित हुआ तो उन्हें भी काम से निकाल दिया गया। तब उनके पास अपने घर वापस पहुंचने के अलावा कोई चारा नहीं रहा।

27 मार्च को जादव ने वापी से पैदल चलना शुरू किया। रास्ते में यदि कोई उन्हें इमरजेंसी में चल रहे वाहन में बैठा लेते थे तो वह कुछ दूर उनके साथ दूरी तय कर लेता था। ऐसा करते-करते जादव 25 दिन में नगांव जिले के राहा इलाके में अपने घर के पास तक पहुंच गए। वह रविवार रात को यहां पहुंचे थे।

जब जादव ने वापी से चलना शुरू किया तो उनके हाथ में सिर्फ 4 हजार रुपये थे। घर पहुंचने के दौरान उन्होंने ट्रक वालों से मदद ली जो देश में जरूरी सामान की आपूर्ति के लिए सड़कों पर दौड़ रहे थे। इस सफर के दौरान उनके पैसे, मोबाइल और अन्य सामान भी लूट लिया गया। जब वह राहा में पहुंचकर सड़क के किनारे आराम कर रहे थे, तभी स्थानीय लोगों ने पुलिस को फोन कर बुला लिया।

जादव ने बताया, “मैं गधारिया करौनी गांव का रहने वाला हूं और बिहार, बंगाल से होते हुए यहां पहुंचा हूं। गुजरात से असम में अपने घर वापस आने के लिए मैंने पुलिस और सरकारी महकमे से मदद मांगी लेकिन मुझे मना कर दिया गया। तब 27 मार्च से मैंने वापी से पैदल चलना शुरू किया।”

पढ़ें :- सीएम योगी ने झांसी में स्ट्रॉबेरी महोत्सव का किया वर्चुअल शुभारम्भ, कहा-बुन्देलखण्ड में मिलेगी ...

जादव ने आगे बताया,” लॉकडाउन की वजह से अपने घर वापस आना मेरी मजबूरी बन गई थी। बिहार से बंगाल होते हुए असम के राहा तक मैंने पैदल ही सफर तय किया।”

राहा की स्थानीय पुलिस की मदद से जादव को नौगांव सिविल हॉस्पिटल में चेकअप के लिए भर्ती कराया गया। उसकी हालत ठीक है लेकिन वह दूसरे राज्य से आया है इसलिए 14 दिनों के लिए क्वारनटीन कर दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...