मंदसौर गैंगरेप केस : 56 दिन के भीतर दोनों दोषियों को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

मंदसौर गैंगरेप केस : 56 दिन के भीतर दोनों दोषियों को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा
मंदसौर गैंगरेप केस : 56 दिन के भीतर दोनों दोषियों को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

Mandsaur Rape Case Flash Death Penalty To Irfan And Asif

नई दिल्ली। मंदसौर में 8 साल की बच्ची से रेप और फिर हत्या की कोशिश के केस में निचली अदालत ने दोनों दरिदों को दोषी ठहराया है. कोर्ट ने इरफान और आसिफ दोनों को धारा 376 और पास्को एक्ट दोनों में दोषी करार दिया है मंगलवार दोपहर न्यायाधीश निशा गुप्ता की अदालत में दोनों आरोपियों को पेश किया गया। लोगों के आक्रोश को देखते हुए कोर्ट परिसर को छावनी में बदल दिया गया था। इसके बावजूद जैसे ही अारोपी पुलिस वैन से नीचे उतरे और कोर्ट की ओर बढ़े एक युवक ने आरोपी आसिफ को चांटा जड़ दिया।

भारतीय जनता पार्टी के नेता विनय दुबेला ने अदालत में सुनवाई के लिए लाए गए दोनों आरोपियों में से एक को परिसर में थप्पड़ मारा। विनय का दोषी को थप्पड़ मारा जाना कैमरे में कैद हो गया और अब वह सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

बता दें कि पिछले 26 जून को दो युवकों इरफान और आसिफ ने स्कूल से छुट्टी के बाद बच्ची का स्कूल के बाहर से उस समय अपहरण कर लिया था जब वह स्कूल के बाहर अपने पिता का इंतजार कर रही थी। बच्ची दूसरे दिन सुबह झाड़ियों में बेहोशी की हालत में मिली थी। उसे गंभीर हालत में इंदौर के एमवाई अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

यहां शुरुआत में बच्ची की हालत लगातार गंभीर बनी रही। बच्ची का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने बताया था कि हमलावरों ने बच्ची के सिर, चेहरे और गर्दन पर धारदार हथियार से हमला किया था। इसके साथ ही, उसके प्राइवेट पार्ट्स को भीषण चोट पहुंचाई थी। जिसकी वजह से बच्ची को कई सर्जरी से गुजरना पड़ा लेकिन उसने अपना हौसला नहीं खोया। बच्ची के हौसले देखकर डॉक्टर भी हैरान थे।

बच्ची से रेप की इस घटना के बाद लोग भारी गुस्से में थे। खुद सीएम शिवराज सिंह चौहान ने घटना को गंभीरता से लिया और खुद सीएस और डीजीपी के साथ बैठक की। सीएम ने अफसरों को साफ निर्देश दिया था कि दरिंदों को फांसी के फंदे तक पहुंचाने में कानूनी कार्रवाई में किसी तरह की देर और चूक ना हो। इस घटना के विरोध में पूरे प्रदेश में लोग सड़क पर उतरे थे। नीमच-मंदसौर और रतलाम बंद रहे। बच्ची के पिता से लेकर आम जनता तक सबने दरिंदों को फांसी देने की मांग की थी।

नई दिल्ली। मंदसौर में 8 साल की बच्ची से रेप और फिर हत्या की कोशिश के केस में निचली अदालत ने दोनों दरिदों को दोषी ठहराया है. कोर्ट ने इरफान और आसिफ दोनों को धारा 376 और पास्को एक्ट दोनों में दोषी करार दिया है मंगलवार दोपहर न्यायाधीश निशा गुप्ता की अदालत में दोनों आरोपियों को पेश किया गया। लोगों के आक्रोश को देखते हुए कोर्ट परिसर को छावनी में बदल दिया गया था। इसके बावजूद जैसे ही अारोपी पुलिस…