मनमोहन सिंह ने अपनी जगह दिया था राहुल गांधी को पीएम बनाने का रखा था प्रस्ताव, कांग्रेस नेता ने किया दावा

    rahul and manmohan singh

    नई दिल्ली। कांग्रेस प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने बुधवार को बड़ा दावा किया है। उन्होंने कहा कि यूपीए—2 में तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह ने राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनने का प्रस्ताव दिया था। शक्ति सिंह ने दावा किया है कि स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर मनोहन सिंह ने चाहते थे कि उनकी जगह राहुल गांधीा सत्ता संभाले लेकिन उन्होंने इसे अस्वीकार कर दिया था।

    Manmohan Singh Gave His Place To Rahul Gandhis Proposal To Make Him Pm Congress Leader Claimed :

    इसके साथ ही उनसे अनुरोध किया था कि वह अपना शासनकाल पूरा करें। एक आॅनलाइन मीडिया ब्रीफिंग में गोहिल ने कहा कि गांधी परिवार हमेशा बड़ा दिल दिखाता है और कभी भी सत्ता की आकांक्षा नहीं की है। उन्होंने पिछले उदाहरणों का हवाला देते हुए कहा कि गांधी परिवार को कभी पदों का लालच नहीं रहा।

    गोहिल ने कहा, ‘देश भर में मौजूद पार्टी के और युवा कार्यकर्ता चाहते हैं कि राहुल गांधी हमारा नेतृत्व करें।’ कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी और एआईसीसी ऐसे मामलों में अंतिम निर्णय लेगी। उनका यह बयान ऐसे समय पर आया है जब कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर बहस चल रही है और प्रियंका गांधी ने कहा है कि कोई गैर-गांधी पार्टी का प्रतिनिधित्व करे।

    नई दिल्ली। कांग्रेस प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने बुधवार को बड़ा दावा किया है। उन्होंने कहा कि यूपीए—2 में तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह ने राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनने का प्रस्ताव दिया था। शक्ति सिंह ने दावा किया है कि स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर मनोहन सिंह ने चाहते थे कि उनकी जगह राहुल गांधीा सत्ता संभाले लेकिन उन्होंने इसे अस्वीकार कर दिया था। इसके साथ ही उनसे अनुरोध किया था कि वह अपना शासनकाल पूरा करें। एक आॅनलाइन मीडिया ब्रीफिंग में गोहिल ने कहा कि गांधी परिवार हमेशा बड़ा दिल दिखाता है और कभी भी सत्ता की आकांक्षा नहीं की है। उन्होंने पिछले उदाहरणों का हवाला देते हुए कहा कि गांधी परिवार को कभी पदों का लालच नहीं रहा। गोहिल ने कहा, ‘देश भर में मौजूद पार्टी के और युवा कार्यकर्ता चाहते हैं कि राहुल गांधी हमारा नेतृत्व करें।’ कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी और एआईसीसी ऐसे मामलों में अंतिम निर्णय लेगी। उनका यह बयान ऐसे समय पर आया है जब कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर बहस चल रही है और प्रियंका गांधी ने कहा है कि कोई गैर-गांधी पार्टी का प्रतिनिधित्व करे।