1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. मन की बात: पीएम मोदी बोले-वोकल फॉर लोकल..ये आज घर-घर में गूंज रहा है

मन की बात: पीएम मोदी बोले-वोकल फॉर लोकल..ये आज घर-घर में गूंज रहा है

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को देशवासियों से मन की बात की। इस साल के आखिरी मन की बात कार्यक्रम में पीएम आत्मनिर्भर भारत, स्वच्छता अभियान, वोकल फॉर लोकल, तेंदुओं की बढ़ती संख्या सहित कई मुद्दों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि नए साल में लोग यह प्रण लें कि वे हमारे देशवासियों के खून पसीने से बने उत्पाादों को ही खरीदेंगे। पीएम मोदी ने कहा कि मुझे कई देशवासियों के पत्र मिले हैं। अधिकतर पत्रों में लोगों ने देश के सामर्थ्य, देशवासियों की सामूहिक शक्ति की भरपूर प्रशंसा की है।

पढ़ें :- Omicron variant : भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरा एक सप्ताह बढ़ सकता है आगे

जब जनता कर्फ्यू जैसा अभिनव प्रयोग, पूरे विश्व के लिए प्रेरणा बना, जब ताली-थाली बजाकर देश ने हमारे कोरोना वॉरियर्स का सम्मान किया था, एकजुटता दिखाई थी उसे भी कई लोगों ने याद किया है। पीएम ने कहा कि जीरो इफेक्ट, जीरो डिफेक्ट की सोच के साथ काम करने का ये उचित समय है। मैं देश के मैन्युफैक्चरर्स और इंडस्ट्री से आग्रह करता हू। देश के लोगों ने मजबूत कदम उठाया है, मजबूत कदम आगे बढ़ाया है, वोकल फॉर लोकल.. ये आज घर-घर में गूंज रहा है।

ऐसे में, अब यह सुनिश्चित करने का समय है, कि, हमारे उत्पाद विश्वस्तरीय हों। इसके साथ पीएम मोदी ने कहा कि आज के ही दिन गुरु गोविंद जी के पुत्रों, साहिबजादे जोरावर सिंह और फतेह सिंह को दीवार में जिंदा चुनवा दिया गया था। अत्याचारी चाहते थे कि साहिबजादे अपनी आस्था छोड़ दें, महान गुरु परंपरा की सीख छोड़ दें। लेकिन, हमारे साहिबजादों ने इतनी कम उम्र में भी गजब का साहस दिखाया, इच्छाशक्ति दिखाई।

दीवार में चुने जाते समय, पत्थर लगते रहे, दीवार ऊंची होती रही, मौत सामने मंडरा रही थी, लेकिन, फिर भी वो टस-से-मस नहीं हुए। पीएम ने कहा कि हमारे देश में आतताइयों से, अत्याचारियों से, देश की हजारों साल पुरानी संस्कृति, सभ्यता, हमारे रीति-रिवाज को बचाने के लिए, कितने बड़े बलिदान दिए गए हैं, आज उन्हें याद करने का भी दिन है। आज ही के दिन गुरु गोविंद सिंह जी की माता जी, माता गुजरी ने भी शहादत दी थी। लोग, श्री गुरु गोविंद सिंह जी के परिवार के लोगों के द्वारा दी गयी शहादत को बड़ी भावपूर्ण अवस्था में याद करते हैं। इस शहादत ने संपूर्ण मानवता को, देश को, नई सीख दी।

 

पढ़ें :- आखिर कब तक सब्र करे भारत का नौजवान, नौकरियों को लेकर अपनी ही सरकार को वरुण गांधी ने घेरा

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...