देश की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा: रक्षा मंत्री

लखनऊ: पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में पिछले दिनों सेना की ओर से हुई बड़ी कार्रवाई के बाद उत्तर प्रदेश की राजधानी पहुंचे रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने आवाम को भरोसा दिलाया कि देश की सरहदें पूरी तरह सुरक्षित हैं। पर्रिकर ने साफ शब्दों में कहा कि राजनीतिक इच्छाशक्ति की वजह से ही यह संभव हो पाया है और आगे भी जरूरत पड़ी तो इसी तरह की कार्रवाई (सर्जिकल स्टाइक) की जा सकती है। देश की सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया जाएगा।




रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने राष्ट्र रक्षा संकल्प संगठन की ओर से आयोजित सम्मान समारोह के दौरान ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि देश पिछले 20 से 30 वर्षो से आतंकवाद का दंश झेलता आ रहा है। सैनिक मारे जा रहे थे, लेकिन राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी की वजह से ऐसी कार्रवाई नहीं हो पा रही थी। उन्होंने कहा, “देश को पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जैसा राजनीतिक इच्छाशक्ति वाला मजबूत नेतृत्व मिला है। इसी वजह से ऐसा संभव हो पाया है। पिछली सरकारों की तरह हम वही गलतियां नही दुहराएंगे। सीमा पर आतंकवादियों को मुहतोड़ जवाब दिया जाएगा।”

पर्रिकर ने कहा कि कुछ राजनीतिक दलों की ओर से सेना की इस कार्रवाई पर सवाल उठाए जा रहे हैं। कार्रवाई का सबूत मांगा जा रहा है, लेकिन उनके इस सवालों का जवाब पाकिस्तान के एक पुलिस अधीक्षक (एसपी) ने ही दे दिया है कि वहां कार्रवाई हुई थी। रक्षामंत्री ने कहा, “कुछ दलों के भीतर इस बात की बेचैनी है कि सेना की इस कार्रवाई के बाद मोदी जी की लोकप्रियता का ग्राफ और बढ़ जाएगा, इस वजह से डरकर लोग यह सवाल उठा रहे हैं। पहले लोग यह सोचते थे कि सेना आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नही करती। क्या सेना के पास वह क्षमता नहीं है? लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि सेना के पास पूरी क्षमता है। बस कमी थी तो इच्छाशक्ति की। वह भी मोदी जी ने पूरी कर दी है।”

पर्रिकर ने यह स्वीकार किया कि सेना की इस कार्रवाई के बाद पूरे देश में एक अलग तरह का माहौल बना है। उन्होंने कहा कि देशभक्ति की लौ जल रही है, जो बुझनी नहीं चाहिए। देशभक्ति के इस माहौल को देखकर ही सीमा पर तैनात जवानों के बीच उत्साह का संचार होता है। रक्षा मंत्री ने कहा, “कुछ लोग कहते हैं कि मैं बहुत सरल हूं, लेकिन मैं बताना चाहता हूं कि सरल होने के बावजूद मैं अपने विरोधियों पर पूरी नजर रखता हूं। गोवा की राजनीति में मैंने 30 वर्ष बिताए हैं। मुख्यमंत्री रहा हूं। यदि विरोधियों की गतिविधियों पर नजर नहीं रखता तो ऐसा संभव नहीं हो पाता।”

पर्रिकर ने कहा, “मैं पाकिस्तान के लिए टेढ़ा बनूंगा, ताकि उसकी नापाक हरकतों का माकूल जवाब दिया जा सके।” रक्षामंत्री ने कहा कि सेना की इस बड़ी कार्रवाई के बाद वह जल्द ही सीमा पर जाकर जवानों से मिलेंगे और उनको यह बताएंगे कि उनकी बहादुरी के बाद देश में किस तरह लोग उनका सम्मान कर रहे हैं।