1. हिन्दी समाचार
  2. उन्नाव दुष्कर्म के आरोपी ​विधायक कुलदीप ​सेंगर के भाई मनोज सेंगर का निधन

उन्नाव दुष्कर्म के आरोपी ​विधायक कुलदीप ​सेंगर के भाई मनोज सेंगर का निधन

By शिव मौर्या 
Updated Date

Manoj Sengar Brother Of Mla Kuldeep Sengar Accused Of Unnao Rape Dies

उन्नाव। उन्नाव दुष्कर्म मामले में आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगेर के भाई मनोज सेंगर का निधन हो गया। मनोज उस दौरान दिल्ली में थे। बताया जा रहा है कि हार्ट अटैक से मनोज की मृत्यू हुई है। बता दें कि, रायबरेली में हुए पीड़िता के एक्सीडेंट मामले में मनोज सेंगर नामजद थे।

पढ़ें :- PM मोदी ने कोरोना संक्रमण स्थिति का लिया जायजा, कहा- लॉकडाउन में भी टीकाकरण में न आए कमी

पीड़िता के चाचा ने एक्सीडेंट को साजिश बताते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इस घटना में दस लोगों को नामजद किया गया था, जिसमें मनोज सेंगर का भी नाम था। गौरतलब है कि, रायबरेली हादसे में पीड़िता की चाची व मौसी की मौत हो गई थी। जबकि पीड़िता का वकील गंभीर रूप से घायल हो गया था।

हादसे के बाद उन्हें लखनऊ में भर्ती कराया गया था हालांकि बाद में उन्हें दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया। इन दिनों कुलदीप सेंगर दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद हैं।

मनोज को खुद को ‘लंकेश’ कहलाना पसंद था
कुलदीप सिंह सेंगर के छोटे भाई मनोज सेंगर का पूरे उन्नाव में सिक्का चलता था। कहा यह भी जाता है कि बड़े भाई कुलदीप के लगातार चौथी बार विधायक चुने जाने के साथ समाजवादी पार्टी नेतृत्व से बगावत कर भाभी संगीता को जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाने में भी मनोज सिंह सेंगर की अहम भूमिका रही। रावण की पूजा करने वाले मनोज को खुद को लंकेश कहलाना पसंद था। कुलदीप सिंह सेंगर के लगभग सभी चुनाव में विधायक के अलावा चुनाव प्रचार के दौरान मनोज का दबंग चेहरा अलग से प्रचार में जुटता था।

मनोज सिंह सेंगर का था अपना दबदबा
उन्नाव में ग्राम प्रधान से चार बार विधायक चुने जाने तक अजेय रहे कुलदीप सिंह सेंगर जहां जिले की राजनीति में खुद में चमकने के लिए सत्ता बल का प्रयोग करते थे तो दूसरी तरफ मनोज सिंह सेंगर ने अपने दबदबे से वाहन अड्डों पर वसूली, खनन और जमीन के कारोबार में अपना सिक्का जमा रखा था, जायज या नाजायज जिस भी कारोबार से लंकेश का नाम जुडऩे के बाद किसी की उसमें हाथ डालने की हिम्मत न होती थी।

पढ़ें :- कोरोना संक्रमण: दिल्ली से चलने वाली 29 ट्रेनें रद्द, कोरोना की वजह से रेलवे ने लिया फैसला

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X