आधार कार्ड में आज से हुए कई बदलाव, अब बार-बार नहीं बदलवा सकेंगे यह चीजें

aadhar
आधार कार्ड में आज से हुए कई बदलाव, अब बार-बार नहीं बदलवा सकेंगे यह चीजें

नई दिल्ली। आधार कार्ड जारी करने वाली संस्था यूनिक आईडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने आज 8 नवंबर से नियमों में कई बदलाव किए हैं। इन नियमों के लागू होने से अब आधार कार्ड में बार-बार अपडेशन कराना मुश्किल होगा।

Many Changes In Aadhaar Card From Today Will Not Be Able To Change These Things Again And Again :

नये नियमों के मुताबिक नाम, जेंडर और जन्म तिथि में बार-बार अपडेशन कराना मुश्किल होगा। अब कोई भी व्यक्ति अपने नाम को केवल दो बार बदलवा सकेगा। इसके अलावा जन्म तिथि में केवल एक बार ही बदलाव हो सकेगा। जन्मतिथि में केवल तीन साल की तीन साल की सीमा होगी, जिसको बदला जा सकेगा। उदाहरण के लिए 1993 में जन्म लेने वाला व्यक्ति केवल 1990 और अधिकतम 1996 के साल तक तिथि में बदलाव करा सकता है।

यूआईडीएआई ने सर्कुलर में कहा है कि कोई भी व्यक्ति अपने जेंडर में केवल एक बार बदलाव करा सकता है। वहीं पते, फोन नंबर और ईमेल आईडी में कितनी भी बार बदलाव कराया जा सकता है। इसके लिए लोगों को निर्धारित फीस चुकानी होगी।

हालांकि जो लोग नए नियमों के अनुसार नाम, जन्मतिथि और जेंडर में तय संख्या तक अपडेट करा चुके हैं, लेकिन फिर भी किसी कारण के चलते अपडेशन कराना जरूरी है तो उनको छूट दी गई है। ऐसे लोगों को आधार सेंटर पर जाकर एक ई-मेल यूआईडीएआई को करना होगा। इसके साथ सभी प्रूफ और उचित वजह भी बतानी होगी। इन को जांचने के बाद अपडेट करने की अनुमति यूआईडीएआई द्वारा दी जा सकेगी।

नई दिल्ली। आधार कार्ड जारी करने वाली संस्था यूनिक आईडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने आज 8 नवंबर से नियमों में कई बदलाव किए हैं। इन नियमों के लागू होने से अब आधार कार्ड में बार-बार अपडेशन कराना मुश्किल होगा। नये नियमों के मुताबिक नाम, जेंडर और जन्म तिथि में बार-बार अपडेशन कराना मुश्किल होगा। अब कोई भी व्यक्ति अपने नाम को केवल दो बार बदलवा सकेगा। इसके अलावा जन्म तिथि में केवल एक बार ही बदलाव हो सकेगा। जन्मतिथि में केवल तीन साल की तीन साल की सीमा होगी, जिसको बदला जा सकेगा। उदाहरण के लिए 1993 में जन्म लेने वाला व्यक्ति केवल 1990 और अधिकतम 1996 के साल तक तिथि में बदलाव करा सकता है। यूआईडीएआई ने सर्कुलर में कहा है कि कोई भी व्यक्ति अपने जेंडर में केवल एक बार बदलाव करा सकता है। वहीं पते, फोन नंबर और ईमेल आईडी में कितनी भी बार बदलाव कराया जा सकता है। इसके लिए लोगों को निर्धारित फीस चुकानी होगी। हालांकि जो लोग नए नियमों के अनुसार नाम, जन्मतिथि और जेंडर में तय संख्या तक अपडेट करा चुके हैं, लेकिन फिर भी किसी कारण के चलते अपडेशन कराना जरूरी है तो उनको छूट दी गई है। ऐसे लोगों को आधार सेंटर पर जाकर एक ई-मेल यूआईडीएआई को करना होगा। इसके साथ सभी प्रूफ और उचित वजह भी बतानी होगी। इन को जांचने के बाद अपडेट करने की अनुमति यूआईडीएआई द्वारा दी जा सकेगी।