विपक्षियों पर चढ़ा भगवा का बुखार, जल्द भाजपा जॉइन कर सकते हैं राज्यसभा सांसद संजय सेठ

bjp-sanjay-seth
विपक्षियों पर चढ़ा भगवा का बुखार, जल्द भाजपा जॉइन कर सकते हैं राज्यसभा सांसद संजय सेठ

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में राजनीतिक पार्टियो में सियासी भूचाल मचा हुआ है। कई कद्दावर नेताओं के पाला बदलने का दौर जारी है। हाल ही में नीरज शेखर और संजय सिंह तो भगवा रंग में रंग गए। इस नेताओं के बाद सुरेंद्र नागर ने भी अखिलेश यादव का साथ छोड़कर भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। सूत्रों की मानें तो पार्टी बदलने का सिलसिला लगातार जारी रहेगा। खुद को बचाने के लिए राजनेताओं में भाजपा जॉइन करने की होड़ तेज हो गयी है।

Many Rajya Sabha Mps Of Sp Bsp Can Join Bjp :

खबर है कि समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सेठ भी जल्द ही पार्टी से इस्तीफा देकर भाजपा के पाले में आ सकते हैं। बता दें कि संजय सेठ का रियल स्टेट का कारोबार है। वे शालीमार ग्रुप के चेयरमैन भी हैं। संजय सेठ पार्टी के कोषाध्यक्ष भी है। वहीं, मुलायम सिंह यादव के क़रीबी दो बुजुर्ग सांसदों के भी भाजपा में जाने की चर्चा अंतिम दौर में है।

सूत्रों की मानें तो समाजवादी पार्टी के ही एक और सांसद चंद्रपाल सिंह यादव का भी अपने घर में मन नहीं लग रहा है। अखिलेश यादव से उनकी बनी नहीं। वे कृभको के चेयरमैन भी हैं। इसीलिए यादव ने भी बीजेपी जाने का मन बना लिया है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में राजनीतिक पार्टियो में सियासी भूचाल मचा हुआ है। कई कद्दावर नेताओं के पाला बदलने का दौर जारी है। हाल ही में नीरज शेखर और संजय सिंह तो भगवा रंग में रंग गए। इस नेताओं के बाद सुरेंद्र नागर ने भी अखिलेश यादव का साथ छोड़कर भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। सूत्रों की मानें तो पार्टी बदलने का सिलसिला लगातार जारी रहेगा। खुद को बचाने के लिए राजनेताओं में भाजपा जॉइन करने की होड़ तेज हो गयी है। खबर है कि समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सेठ भी जल्द ही पार्टी से इस्तीफा देकर भाजपा के पाले में आ सकते हैं। बता दें कि संजय सेठ का रियल स्टेट का कारोबार है। वे शालीमार ग्रुप के चेयरमैन भी हैं। संजय सेठ पार्टी के कोषाध्यक्ष भी है। वहीं, मुलायम सिंह यादव के क़रीबी दो बुजुर्ग सांसदों के भी भाजपा में जाने की चर्चा अंतिम दौर में है। सूत्रों की मानें तो समाजवादी पार्टी के ही एक और सांसद चंद्रपाल सिंह यादव का भी अपने घर में मन नहीं लग रहा है। अखिलेश यादव से उनकी बनी नहीं। वे कृभको के चेयरमैन भी हैं। इसीलिए यादव ने भी बीजेपी जाने का मन बना लिया है।