मरने से पहले लिखा इस लड़की ने ऐसा खत, आंसू नहीं रोक पाएंगे आप

लातूर। तंग हालत से जूझ रही एक लड़की ने महज इस बात पर अपनी जान दे दी क्योकि वो अपनी वजह से अपने पिता के चेहरों पर और ज्यादे दुख नहीं देख पाती थी। लातूर की इस 21 वर्षीय लड़की ने कुएं में कूदकर जान दे दी, क्योंकि उसके पिता उसकी शादी के लिए पैसे नहीं जुटा पा रहे थे। इस लड़की ने मरने से पहले समाज के नाम एक ऐसा मार्मिक खत छोड़ा है जो समाज के नाम पर करारा तमाचा है।




दरअसल शुक्रवार सुबह शीतल नामक 21 वर्षीय युवती ने अपने ही खेत के कुएं में कूदकर जान दे दी। डेड बॉडी प्यि गयी तो उसके पास एक लेटर मिला, जिसमें इस लड़की ने अपने पिता और परिवार का दर्द लिखा था। लेटर में भावनात्मक रूप से लिखा था, ‘मैं अपने पिता के आर्थिक बोझ को कम करने और अपने मराठा-कुनबी समुदाय में दहेज की प्रथा को खत्म करने के लिए अपना जीवन खत्म कर रही हूं।’ इन शब्दों से राज्य के राजनैतिक हलकों में हलचल मच गई है।



शीतल ने आगे लिखा था, ‘पिछले पांच वर्षों से फसल खराब होने की वजह से परिवार आर्थिक संकट से गुजर रहा है, हालात नाजुक बने हुए हैं। हालांकि, मेरी बहनों की शादी बिना किसी दिखावे के शालीन तरीके से संपन्न हो गई।’ शीतल के मुताबिक, ‘मेरी शादी के लिए मेरे पिता लगातार कोशिशें कर रहे हैं… लेकिन बैंकों-साहूकारों से लोन न मिल पाने के कारण मेरी शादी दो सालों से टल रही है। इसलिए अपने पिता का बोझ कम करने और मराठा समुदाय में दहेज की प्रथा को खत्म करने के लिए मैं अपना जीवन खत्म कर रही हूं। मुझे और मेरे परिवार को इसके लिए किसी भी प्रकार से दोष नहीं दिया जाना चाहिए।’