पैदा होते ही बेटे के सिर से उठा बाप का साया, शहीद होने की खबर सुनते ही छाया मातम

shahid-sukhdayal

Martyr Soldier In Pathankot

पठानकोट। जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में अंबुशट में आतंकियों से हुई मुठभेड़ के दौरान गोली का शिकार हुए सैनिक सुखदयाल की दिल्ली में उपचार के दौरान मौत हो गई। इस सैनिक के घर 4 दिन पहले ही नन्हें मेहमान का आगमन हुआ था जिस वजह से पूरे घर में खुशियों का माहौल था लेकिन जैसे ही जवान के घर शहीद होने की खबर पहुंची तो घर में चीख पुकार मच गई।

जानकारी के अनुसार सुखदयाल 2013 में 28 आर.आर. यूनिट में बतौर सिपाही भर्ती हुआ था। उसकी शादी 2016 में पल्लवी से हुई थी। पत्नी के गर्भवती होने पर डेढ़ माह पहले ही सुखदयाल घर में छुट्‌टी पर आया था। छुट्‌टी खत्म होने पर वह वापिस डयूटी पर चला गया। उसके ड्यूटी पर जाने के 4 दिन बाद ही पत्नी ने बेटे को जन्म दिया।
घर में नवजन्मे बेटा होने पर खुशियों का माहौल चल रहा था कि सोमवार देर रात सुखदयाल की शहीद होने की खबर घर में पहुंच गई। वह पिछले शनिवार को आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान गोली लगने से घायल हो गया थे। इसके बाद उसे दिल्ली के अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती करवाया गया था।जवान के शहीद होने की खबर सुन मां संतोष कुमारी, भाई, बहनों व रिश्तेदारों का रो-रोकर बुरा हाल था।मां ने नम आंखों से बताया कि उसका सबसे छोटा बेटा सुखदयाल बचपन से आर्मी में भर्ती होने की बातें करता था। जब पल्लवी को पति के शहीद होने की खबर पता चली तो वह बेटे प्रणांश को सीने से लगा रोते-रोते बेसुध हो गई।

पठानकोट। जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में अंबुशट में आतंकियों से हुई मुठभेड़ के दौरान गोली का शिकार हुए सैनिक सुखदयाल की दिल्ली में उपचार के दौरान मौत हो गई। इस सैनिक के घर 4 दिन पहले ही नन्हें मेहमान का आगमन हुआ था जिस वजह से पूरे घर में खुशियों का माहौल था लेकिन जैसे ही जवान के घर शहीद होने की खबर पहुंची तो घर में चीख पुकार मच गई। जानकारी के अनुसार सुखदयाल 2013 में 28 आर.आर. यूनिट…