मरियम ने जारी किया वीडियो, कहा-जज को ब्लैकमेल कर नवाज शरीफ को ठहराया दोषी

maryam nawaj
मरियम ने जारी किया वीडियो, कहा-जज को ब्लैकमेल कर नवाज शरीफ को ठहराया दोषी

लाहौर। पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज की नेता मरियम नवाज ने एक वीडियो जारी किया है। इस वीडियो में जवाबदेही अदालत के एक न्यायाधीश कथित तौर पर यह स्वीकर करते नजर आ रहे हैं कि पूर्व पीएम नवाज शरीफ को भ्रष्टाचार के एक मामले में दोषी ठहराने के लिए उन्हें ब्लैकमेल और उन पर दबाव डाला गया था।

Maryam Nawaz Said Pak Judge Blackmailed Into Issuing Verdict Against Nawaz Sharif :

लाहौर में शनिवार को एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए मरियम ने कहा कि, उनके पिता को लेकर पूरे न्यायिक प्रक्रिय को प्रभावित किया गया। मरियम ने दावा किया कि, जवाबदेही अदालत इस्लामाबाद के न्यायाधीश अरशद मलिक ने उनकी पार्टी के समर्थक नसीर भट्ट से यह स्वीकार किया कि उन्हें पूर्व पीएम के नवाज शरीफ के खिलाफ फैसला देने के लिए ब्लैकमेल किया गया।

इसके साथ ही उन पर कई तरह के दबाव डाले गए। वहीं, इस मामले में इमरान सरकार ने कहा कि, वीडियो के साथ छेड़छाड़ की गयी है। उन्होंने इस वीडियो का फरेंसिक ऑडिट कराने की मांग करते हुए इसे न्यायपालिका पर हमला करार दिया। बता दें कि नवाज शरीफ अल अजीजिया स्टील मिल मामले में भ्रष्टाचार के दोषी ठहराए गए थे, जिसके बाद 24 दिसंबर 2018 से कोट लखपत जेल में बंद हैं। उन्हें इस मामले में सात साल के कारावास की सजा सुनाई गई है।

लाहौर। पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज की नेता मरियम नवाज ने एक वीडियो जारी किया है। इस वीडियो में जवाबदेही अदालत के एक न्यायाधीश कथित तौर पर यह स्वीकर करते नजर आ रहे हैं कि पूर्व पीएम नवाज शरीफ को भ्रष्टाचार के एक मामले में दोषी ठहराने के लिए उन्हें ब्लैकमेल और उन पर दबाव डाला गया था। लाहौर में शनिवार को एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए मरियम ने कहा कि, उनके पिता को लेकर पूरे न्यायिक प्रक्रिय को प्रभावित किया गया। मरियम ने दावा किया कि, जवाबदेही अदालत इस्लामाबाद के न्यायाधीश अरशद मलिक ने उनकी पार्टी के समर्थक नसीर भट्ट से यह स्वीकार किया कि उन्हें पूर्व पीएम के नवाज शरीफ के खिलाफ फैसला देने के लिए ब्लैकमेल किया गया। इसके साथ ही उन पर कई तरह के दबाव डाले गए। वहीं, इस मामले में इमरान सरकार ने कहा कि, वीडियो के साथ छेड़छाड़ की गयी है। उन्होंने इस वीडियो का फरेंसिक ऑडिट कराने की मांग करते हुए इसे न्यायपालिका पर हमला करार दिया। बता दें कि नवाज शरीफ अल अजीजिया स्टील मिल मामले में भ्रष्टाचार के दोषी ठहराए गए थे, जिसके बाद 24 दिसंबर 2018 से कोट लखपत जेल में बंद हैं। उन्हें इस मामले में सात साल के कारावास की सजा सुनाई गई है।