जय श्री राम का नारा न लगाने पर इमाम की पिटाई का आरोप, जांच में जुटी पुलिस

a.jpeg
Police deployed after a shopkeeper (Lassi Shop in Blue Shutter) killed by group of people at Chowk Bazar in Mathura, Uttar Pradesh on Monday. EXPRESS PHOTO BY PRAVEEN KHANNA 27 05 2019.

बागपत। जय श्रीराम का नारा न लगाने पर एक संप्रदाय के लोगों की पिटाई का मामले लगातार बढ़ते जा रहें हैं। इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के बागपत जनपद का नाम भी जुड़ गया है। आरोप है कि बाइक से अपने घर जा रहे मौलवी को दर्जनभर युवकों ने रोक दिया और जबरन जय श्रीराम का नारा लगाने का दबाव बनाया और जब मौलवी ने ऐसा करने से मना किया तो फिर उनकी बेरहमी से पिटाई की गई। मौलवी की पिटाई होती रही और भीड़ तमाशबीन बनी रही जिसके बाद जैसे तैसे मौलवी ने भागकर जान बचाई।

Maulana Beaten Up And Forced To Chant Jai Shri Ram Slogan In Baghpat :

मौलवी इमलाउर रहमान ने बताया कि रविवार की रात जब वह दोघट थाना इलाके के सरोरो गांव के पास पहुंचे तो रास्ते में 10-12 लड़के मिले जो कि पहले से ही रोड पर तैयार थे। वह सभी गाड़ी के सामने आकर खड़े हो गए। जिसके बाद उन्होंने मुझसे मारपीट करना शुरू कर दी।

उसके बाद दाढ़ी टोपी पर भी हाथ डाला। उन्होंने मुझे जय श्री राम की नारेबाजी करने के लिए कहा। उसके बाद जब मैंने इन चीजों की मना की तो वो जो फावड़ा लिए हुए थे उसको लेकर मुझे जान से मारने के लिए आ गए। जिसके बाद मैं बहुत मुश्किल से अपनी जान बचाकर वहां से भाग निकला।

कुछ देर बाद जब वो वहां से चले गए तो मैं अपनी बाइक लेकर वापस चौकी आया और साथ ही अपने दोस्त को फोन किया। इस घटना की जानकारी उनके परिवार को मिली तो उनमें भी आक्रोश फैल गया। परिवार के लोगों का कहना है कि कुछ लोग माहौल खराब करने पर तुले हैं और ऐसे लोगों पर सख्त एक्शन होना चाहिए।

वहीं इस पर बागपत पुलिस का कहना है कि वह मामले की जांच करेंगे और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इमलाउर रहमान का कहना है कि कुछ चुनिन्दा लोग होते हैं जो इस तरह की घटिया हरकतें करते हैं और दंगा फसाद फैलाकर माहौल खराब करने की कोशिश की जा रही है।

बागपत। जय श्रीराम का नारा न लगाने पर एक संप्रदाय के लोगों की पिटाई का मामले लगातार बढ़ते जा रहें हैं। इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के बागपत जनपद का नाम भी जुड़ गया है। आरोप है कि बाइक से अपने घर जा रहे मौलवी को दर्जनभर युवकों ने रोक दिया और जबरन जय श्रीराम का नारा लगाने का दबाव बनाया और जब मौलवी ने ऐसा करने से मना किया तो फिर उनकी बेरहमी से पिटाई की गई। मौलवी की पिटाई होती रही और भीड़ तमाशबीन बनी रही जिसके बाद जैसे तैसे मौलवी ने भागकर जान बचाई। मौलवी इमलाउर रहमान ने बताया कि रविवार की रात जब वह दोघट थाना इलाके के सरोरो गांव के पास पहुंचे तो रास्ते में 10-12 लड़के मिले जो कि पहले से ही रोड पर तैयार थे। वह सभी गाड़ी के सामने आकर खड़े हो गए। जिसके बाद उन्होंने मुझसे मारपीट करना शुरू कर दी। उसके बाद दाढ़ी टोपी पर भी हाथ डाला। उन्होंने मुझे जय श्री राम की नारेबाजी करने के लिए कहा। उसके बाद जब मैंने इन चीजों की मना की तो वो जो फावड़ा लिए हुए थे उसको लेकर मुझे जान से मारने के लिए आ गए। जिसके बाद मैं बहुत मुश्किल से अपनी जान बचाकर वहां से भाग निकला। कुछ देर बाद जब वो वहां से चले गए तो मैं अपनी बाइक लेकर वापस चौकी आया और साथ ही अपने दोस्त को फोन किया। इस घटना की जानकारी उनके परिवार को मिली तो उनमें भी आक्रोश फैल गया। परिवार के लोगों का कहना है कि कुछ लोग माहौल खराब करने पर तुले हैं और ऐसे लोगों पर सख्त एक्शन होना चाहिए। वहीं इस पर बागपत पुलिस का कहना है कि वह मामले की जांच करेंगे और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इमलाउर रहमान का कहना है कि कुछ चुनिन्दा लोग होते हैं जो इस तरह की घटिया हरकतें करते हैं और दंगा फसाद फैलाकर माहौल खराब करने की कोशिश की जा रही है।