परिवारिक कलह से समय निकालकर जनहित कार्यो पर ध्यान दें अखिलेश: मायावती

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री व बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को नसीहत दी है कि उन्हें परिवारिक कलह से थोड़ा समय निकालकर जनहित के कार्यो पर भी देना चाहिए। बसपा प्रमुख ने डेंगू मामले को लेकर उच्च न्यायालय की तरफ से प्रदेश सरकार को फटकार लगाए जाने का स्वागत किया।

मायावती ने यहां जारी एक बयान में कहा कि सपा सरकार जनकल्याण के प्रति लगातार लापरवाही बरत रही है, जिससे डेंगू जैसी घातक बीमारी ने महामारी का रूप ले लिया। डेंगू से काफी ज्यादा लोगों की जान जा रही है। इस कारण हाईकोर्ट को अब इस मामले में सीधे तौर पर दखल देने को मजबूर होना पड़ा है।

मायावती ने कहा कि मौजूदा हालात में डेंगू को तत्काल महामारी घोषित करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि डेंगू के मामले में ढिलाई व लापरवाही बरती गई है। इसकी रोकथाम के लिए तत्काल समुचित प्रभावी कदम उठाने की जरूरत है तथा दोषी लोगों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई तत्काल होनी चाहिए।

बसपा मुखिया ने कहा कि कि जब प्रदेश में विधानसभा का आमचुनाव बहुत नजदीक है तो सपा सरकार के कलह में उलझे मुख्यमंत्री समाज के विभिन्न वर्गो को लुभाने के लिए किस्म-किस्म की ‘नाटकबाजी’ कर रहे हैं और कई तरह की घोषणाएं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ग्राम प्रधानों का मानदेय 2,500 से 3,500 करने की घोषणा तथा मध्याह्न् भोजन के अंतर्गत स्कूली बच्चों को सपा सरकार की प्रचार सामग्री के तौर पर खाने का बर्तन देना पूर्ण रूप से सस्ती लोकप्रियता हासिल करने का प्रयास है।