दलित उत्पीड़न से नाराज हुई मायावती, कहा-दोषियों पर सख्त कार्रवाई करें सरकार

mayawati
यूपी में सरकार बनी तो सभी ​जातियों के महान संतों के नाम अस्पताल का करेंगे निर्माण : ​मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने राज्य में बढ़ रहे दलित उत्पीड़न को लेकर नाराजगी जाहिर की है। जौनपुर और आजमगढ़ में दलितों पर हुए अत्याचार को लेर मायावती ने सरकार से कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि मामले में जो भी दोषी हो, चाहे वह किसी भी धर्म और जाति का हो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

Mayawati Angered By Dalit Oppression Said Government Should Take Strict Action Against The Culprits :

मायावती ने ट्वीट कर कहा है कि, यू.पी में चाहे आजमगढ़, कानपुर या अन्य किसी भी जिले में खासकर दलित बहन-बेटी के साथ हुये उत्पीड़न का मामला हो या फिर अन्य किसी भी जाति व धर्म की बहन-बेटी के साथ हुए उत्पीड़न का मामला हो, उसकी जितनी भी निन्दा की जाये, वह कम है।

इसके साथ ही लिखा है कि साथ ही, चाहे इसके दोषी किसी भी धर्म, जाति व पार्टी के बड़े से बड़े नेता व कितने भी प्रभावशाली व्यक्ति क्यों ना हो, उनके विरूद्व तुरन्त व सख्त कानूनी कार्रवाई होनी चहिये। बी.एस.पी का यह कहना व सलाह भी है।

साथ ही लिखा है कि, खासकर अभी हाल ही में आजमगढ़ में दलित बेटी के साथ हुये उत्पीड़न के मामले में कार्रवाई को लेकर यू.पी के मुख्यमंत्री देर आये पर दुरस्त आये, यह अच्छी बात है। लेकिन बहन-बेटियों के मामले में कार्रवाई आगे भी तुरन्त व समय से होनी चाहिये तो यह बेहतर होगा।

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने राज्य में बढ़ रहे दलित उत्पीड़न को लेकर नाराजगी जाहिर की है। जौनपुर और आजमगढ़ में दलितों पर हुए अत्याचार को लेर मायावती ने सरकार से कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि मामले में जो भी दोषी हो, चाहे वह किसी भी धर्म और जाति का हो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। मायावती ने ट्वीट कर कहा है कि, यू.पी में चाहे आजमगढ़, कानपुर या अन्य किसी भी जिले में खासकर दलित बहन-बेटी के साथ हुये उत्पीड़न का मामला हो या फिर अन्य किसी भी जाति व धर्म की बहन-बेटी के साथ हुए उत्पीड़न का मामला हो, उसकी जितनी भी निन्दा की जाये, वह कम है। इसके साथ ही लिखा है कि साथ ही, चाहे इसके दोषी किसी भी धर्म, जाति व पार्टी के बड़े से बड़े नेता व कितने भी प्रभावशाली व्यक्ति क्यों ना हो, उनके विरूद्व तुरन्त व सख्त कानूनी कार्रवाई होनी चहिये। बी.एस.पी का यह कहना व सलाह भी है। साथ ही लिखा है कि, खासकर अभी हाल ही में आजमगढ़ में दलित बेटी के साथ हुये उत्पीड़न के मामले में कार्रवाई को लेकर यू.पी के मुख्यमंत्री देर आये पर दुरस्त आये, यह अच्छी बात है। लेकिन बहन-बेटियों के मामले में कार्रवाई आगे भी तुरन्त व समय से होनी चाहिये तो यह बेहतर होगा।