1. हिन्दी समाचार
  2. मायावती ने पकड़ा BJP का सुर, श्रमिकों की दुर्दशा के लिए कांग्रेस को बताया असली कसूरवार

मायावती ने पकड़ा BJP का सुर, श्रमिकों की दुर्दशा के लिए कांग्रेस को बताया असली कसूरवार

Mayawati Caught Bjps Tone Told Congress The Real Blame For The Plight Of Workers

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती आजकल बीजेपी के सुर में ही बयानबाजी करती नजर आ रही हैं. यूपी की सियासत में जबसे विधानसभा चुनाव आया है तभी से पूरा विपक्ष एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी कर रहा है. मायावती ने देश में घर लौट रहे प्रवासी मजदूरों की समस्या को लेकर एकबार फिर कांग्रेस पर हमला किया है. मायावती के अनुसार इस दुर्दशा की असली कसूरवार कांग्रेस है. इतने लंबे शासनकाल में पलायन रोकने के लिए उसने कुछ नहीं किया. मायावती ने वर्तमान केंद्र और राज्य सरकारों को कांग्रेस के पदचिन्हों पर न चलकर पलायन रोकने की सलाह दी है.

पढ़ें :- केले और अंडे को एक साथ जमीन में गाड़ दे और फिर जो होगा वो देख कर रह जायेंगे दंग

मायावती ने ट्वीट किया है, “आज पूरे देश में कोरोना लॉकडाउन के कारण करोड़ों प्रवासी श्रमिकों की जो दुर्दशा दिख रही है, उसकी असली कसूरवार कांग्रेस है क्योंकि आजादी के बाद इनके लम्बे शासनकाल के दौरान अगर रोजी-रोटी की सही व्यवस्था गांव/शहरों में की होती तो इन्हें दूसरे राज्यों में क्यों पलायन करना पड़ता?”

पढ़ें :- घर में लगाएं यह 3 पेड़, धन की नहीं होगी कमी, माँ लक्ष्मी की कृपा से घर में बनी रहेगी सुख-समृद्धि और खुशहाली

उन्होंने लिखा है, “वैसे ही वर्तमान में कांग्रेसी नेता द्वारा लॉकडाउन त्रासदी के शिकार कुछ श्रमिकों के दुःख-दर्द बांटने सम्बंधी जो वीडियो दिखाया जा रहा है वह हमदर्दी वाला कम व नाटक ज्यादा लगता है. कांग्रेस अगर यह बताती कि उसने उनसे मिलते समय कितने लोगों की वास्तविक मदद की है तो यह बेहतर होता.”

तीसरे ट्वीट में मायावती ने लिखा है, ‘साथ ही, बीजेपी की केन्द्र व राज्य सरकारें कांग्रेस के पदचिन्हों पर न चलकर, इन बेहाल घर वापसी कर रहे मजदूरों को उनके गांवों/शहरों में ही रोजी-रोटी की सही व्यवस्था करके उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की नीति पर यदि अमल करती हैं तो फिर आगे ऐसी दुर्दशा इन्हें शायद कभी नहीं झेलनी पड़ेगी”

आखिरी ट्वीट में बीएसपी सुप्रीमो ने लिखा है, “बीएसपी के लोगों से भी पुनः अपील है कि जिन प्रवासी मजदूरों को उनके घर लौटने पर उन्हें गांवों से दूर अलग-थलग रखा गया है तथा उन्हें उचित सरकारी मदद नहीं मिल रही है तो ऐसे लोगों को भी अपना मानकर उनकी भरसक मानवीय मदद करने का प्रयास करें. मजलूम ही मजलूम की सही मदद कर सकता है.”

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...