यूपी के लोकसभा उपचुनाव के जरिए, मायावती ने तैयार किया राज्यसभा में वापसी का फार्मूला

मायावती, Mayawati, BSP
यूपी के लोकसभा उपचुनाव के जरिए, मायावती ने तैयार किया राज्यसभा में वापसी का फार्मूला

Mayawati Finds Her Way To Rajyasabha Through Parliament By Election

लखनऊ । पूर्वोत्तर में भाजपा को मिली जीत के बाद उत्तर प्रदेश की दो लोकसभा सीटों पर हो रहे उपचुनावों का गणित बदल गया है। मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी ने अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी के उम्मीदवारों को समर्थन देने का फैसला किया है। लेकिन जो लोग मायावती की राजनीति को करीब से जानते हैं उनकी माने तो वह कुछ नि:स्वार्थ नहीं करतीं ।

अब सामने आ रहा है कि मायावती ने गोरखपुर और फूलपुर उपचुनाव में समाजवादी पार्टी के उम्मीदवारों को समर्थन देने में अपना फायदा ढूंढ़ ही लिया है। मायावती ने स्वयं स्पष्ट किया है कि वह किसी गठबंधन के तहत ऐसा नहीं कर रहीं हैं। भाजपा के उम्मीदवारों के खिलाफ पार्टी के जिला पदाधिकारियों की नीति के तहत सपा उम्मीदवारों को समर्थन देने का फैसला ​किया है।

जिसके लिए बसपा ने सपा के सामने शर्त रखी है कि वह उत्तर प्रदेश में होने वाले राज्यसभा चुनावों में बसपा के उम्मीदवार का समर्थन करेंगी। वहीं बसपा ने कांग्रेस के सामने भी शर्त रखी है कि अगर उसे मध्यप्रदेश के राज्यसभा चुनावों में बसपा के विधायकों का समर्थन चाहिए तो उसे यूपी में बसपा प्रत्याशी का समर्थन करना पड़ेगा।

उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव के गणित को समझा जाए तो बसपा के पास वर्तमान ​समय में 19, सपा के पास 47 और कांग्रेस के 6 सीटें हैं। तीनों दलों के पास कुल 72 वोट हैं। इस हिसाब से तीनों दल मिलकर केवल दो उम्मीदवारों को राज्यसभा भेजने मे सक्षम हैं। जिसमें एक उम्मीदवार सपा का होगा और दूसरा बसपा का। यदि कांग्रेस इस चुनाव में बसपा की शर्त को मानने के लिए तैयार हो जाती है तो जीत के गणित के लिहाज से आवश्यक 34 वोट पूरे होने के बाद भी विपक्ष के पास 4 अतिरिक्त विधायकों के मत बच जाएगे।

बसपा की ओर से राज्यसभा जाने वाली सबसे प्रबल दावेदार स्वयं पार्टी की मुखिया मायावती हैं। जिन्होंने राज्यसभा में अपना कार्यकाल शेष रहते इस्तीफा दे दिया था। हालाँकि मायावती से अभी तक बसपा प्रत्याशी का नाम घोषित नहीं किया है।

लखनऊ । पूर्वोत्तर में भाजपा को मिली जीत के बाद उत्तर प्रदेश की दो लोकसभा सीटों पर हो रहे उपचुनावों का गणित बदल गया है। मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी ने अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी के उम्मीदवारों को समर्थन देने का फैसला किया है। लेकिन जो लोग मायावती की राजनीति को करीब से जानते हैं उनकी माने तो वह कुछ नि:स्वार्थ नहीं करतीं । अब सामने आ रहा है कि मायावती ने गोरखपुर और फूलपुर…