1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. भाजपा की ‘बी टीम’ बताने पर आग बबूला मायावती, बोलीं- कांग्रेस पार्टी ने बहुजन को गुलाम बनाकर रखा

भाजपा की ‘बी टीम’ बताने पर आग बबूला मायावती, बोलीं- कांग्रेस पार्टी ने बहुजन को गुलाम बनाकर रखा

बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस पार्टी द्वारा बसपा को भाजपा की बी टीम बताने आग बबूला हो गई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के 'सी' का मतलब कनिंग पार्टी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने बहुजन समाज के वोट लेकर लंबे समय तक सत्ता कायम रखी। उलटे एससी एसटी, ओबीसी, धार्मिक अल्पसंख्यक व अन्य उपेक्षित वर्ग के लोगों को गुलाम बनाकर रखा है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Mayawati Furious For Telling Bjps B Team Said Congress Party Kept Bahujan As A Slave

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस पार्टी द्वारा बसपा को भाजपा की बी टीम बताने आग बबूला हो गई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के ‘सी’ का मतलब कनिंग पार्टी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने बहुजन समाज के वोट लेकर लंबे समय तक सत्ता कायम रखी। उलटे एससी एसटी, ओबीसी, धार्मिक अल्पसंख्यक व अन्य उपेक्षित वर्ग के लोगों को गुलाम बनाकर रखा है।

पढ़ें :- अब यूपी में केवल मोदी और योगी  के विकासवाद का युग : डॉ. दिनेश शर्मा  

उन्होंने कहा कि बसपा के ‘बी’ का मतलब बहुजन है, जिसके जिसमें एससी एसटी, ओबीसी, धार्मिक अल्पसंख्यक व अन्य उपेक्षित वर्ग के लोग आते हैं। मायावती ने कहा कि यह सर्वविदित है कि यूपी में कांग्रेस, सपा व भाजपा की सरकार के चलते यहां कोई भी छोटा बड़ा चुनाव स्वतंत्र व निष्पक्ष कभी नहीं हो सकता। न ही इनसे किसी को कोई उम्मीद करनी चाहिए। जबकि बसपा की सरकार के समय यहां सभी छोटे-बड़े चुनाव निष्पक्ष ढंग से कराए गए।

पढ़ें :- UP Assembly Election 2022: यूपी की राजनीति में ब्राम्हण जब याद आए तो बहुत याद आए

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि यूपी में भी कांग्रेस ऑक्सीजन पर चल रही है। कांग्रेस का यह कहना कि बीएसपी के ‘बी‘ का मतलब ’बीजेपी’ है घोर आपत्तिजनक है ,जबकि बीएसपी के ‘बी‘ का अर्थ बहुजन है, जिसमें एससी, एसटी, ओबीसी है। इसमें धार्मिक अल्पसंख्यक व अन्य उपेक्षित वर्ग के लोग आते हैं। जिनकी संख्या ज्यादा होने की वजह से वे बहुजन कहलाते हैं।

जबकि कांग्रेस के ‘सी‘ का मतलब वास्तव में ‘कनिंग’ पार्टी है जिसने केन्द्र व राज्यों में अपने लम्बे शासनकाल में बहुजन के वोटों से अपनी सरकार बनाने के बावजूद इन्हें लाचार व गुलाम बनाकर रखा और अन्ततः बसपा बनाई गई और तब उस समय बीजेपी केन्द्र व राज्यों की सत्ता में कहीं नहीं थी।

पढ़ें :- UP Assembly Election 2022: दलितों और पिछड़ों की बात करने वालीं मायावती को क्यों याद आए ब्राह्मण?

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...