1. हिन्दी समाचार
  2. मायावती बोलीं- प्रवासी मजदूरों से ट्रेनों व बसों में किराया लेना अति दुर्भाग्यपूर्ण

मायावती बोलीं- प्रवासी मजदूरों से ट्रेनों व बसों में किराया लेना अति दुर्भाग्यपूर्ण

Mayawati Said It Is Very Unfortunate To Take Fare In Trains And Buses From Migrant Laborers

लखनऊ। कोरोना लॉकडाउन के दौरान यूपी के प्रवासी मजदूरों से ट्रेन में ​किराया लेने के मामले को लेकर सियासत तेज होती जा रही है। बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने लॉकडाउन के कारण दूसरे राज्यों में फंसे श्रमिकों से उन्हें वापस लाने के लिए किराया वसूले जाने की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा है कि अगर सरकारें मजदूरों का किराया देने में आनाकानी करती हैं तो बसपा इन मजदूरों को भेजने में योगदान करेगी।

पढ़ें :- सरकारी नौकरी: लोकसभा सलाहकार के पद पर निकली भर्ती, ऐसे करें आवेदन

मायावती ने मंगलवार को ट्वीट कर कहा कि यह अति दुर्भाग्यपूर्ण है कि केन्द्र एवं राज्य सरकारें प्रवासी मजदूरों को ट्रेनों और बसों आदि से भेजने के लिए उनसे किराया भी वसूल रही हैं। सभी सरकारें यह स्पष्ट करें कि वे उन्हें भेजने के लिए किराया नहीं दे पायेंगी। यह बसपा की मांग है। उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में बसपा का यह भी कहना है अगर सरकारें प्रवासी मजदूरों का किराया देने में आनाकानी करती हैं तो फिर वह अपने सामर्थ्यवान लोगों से मदद लेकर उनको भेजने की व्यवस्था करने में अपना थोड़ा योगदान जरूर करेगी।

बता दें कि सोमवार को कांग्रेस के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का बयान ट्वीट किया गया था, जिसमें कहा गया था, ‘भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने यह निर्णय लिया है कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी की हर इकाई हर जरूरतमंद श्रमिक व कामगार के घर लौटने की रेल यात्रा का टिकट खर्च वहन करेगी व इस बारे जरूरी कदम उठाएगी.’ इसके बाद पूरा विपक्ष सरकार पर हमलावर हो गया। आज अखिलेश यादव ने भी मजूदूरों के हांथ में टिकट वाली फोटो ट्वीट करते हुए सरकार पर हमला किया है।

पढ़ें :- Weather Update: इन इलाकों में बारिश के आसार, दिल्ली-NCR में घना कोहरा...

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...