मायावती बोलीं संतोष गंगवार देश से मांगे माफी, उत्तर भारतियों पर दिया था विवादित बयान

Mayawati
मायावती बोलीं संतोष गंगवार देश से मांगे माफी, उत्तर भारतियों पर दिया था विवादित बयान

नई दिल्ली। केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार उत्तरभारतियों पर विवादित बयान देकर चारों तरफ से घिरते जा रहे हैं। जबसे उन्होने यह बयान दिया कि देश में रोजगार की नही बल्कि उत्तर भारतियों की योग्यता में कमी है तबसे उनकी सभी राजनीतिक पार्टियों ने आलोचना करना शुरू कर दिया।

Mayawati Said Santosh Gangwar Apologized To The Country Gave Controversial Statement On North Indians :

मायावती ने कहा कि जहां देश आर्थिक मंदी से जूझ रहा है, ऐसे में बेरोजगारी दूर करने के बजाय मोदी सरकार के मंत्री हास्यस्पद बयानबाजी कर रहे हैं। उत्तर भारतियों को रोजगार देने के बजाय केन्द्रीय मंत्री संतोष गंगवार का यह कहना है कि रोजगार की कमी नहीं बल्कि उनमें योग्यता की कमी है। ये बेहद ही शर्मनाक बयान है, इसके लिए उन्हे देश से माफी मांगनी चाहिए।

वहीं कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने विरोध जताते हुए कहा कि मोदी सरकार का कार्यकाल 5 साल से ज्यादा हो चुका है, सरकार नौकरियां पैदा नही कर पाई और जो हैं वो आर्थिक मंदी के कारण छिन रही हैं। देश का युवा रोजगार की राह देख रहा है और मंत्री जी अपनी सरकार की नाकामी को छिपाने के लिए उत्तर भा​रतियों का अपमान करके निकलना चाहते हैं। अब ये नही चलने वाला।

वहीं आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने भी मोदी सरकार के मंत्री के इस बेतुके बयान को उत्तर भारतीयों का अपमान बताया है. उन्होंने कहा अगर कहीं योग्यता की कमी है तो वो मोदी सरकार की योग्यता में कमी है। आखिर मंत्री क्यों नही बता रहे कि चौपट अर्थव्यवस्था के लिए जिम्मेदार कौन है।

नई दिल्ली। केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार उत्तरभारतियों पर विवादित बयान देकर चारों तरफ से घिरते जा रहे हैं। जबसे उन्होने यह बयान दिया कि देश में रोजगार की नही बल्कि उत्तर भारतियों की योग्यता में कमी है तबसे उनकी सभी राजनीतिक पार्टियों ने आलोचना करना शुरू कर दिया। मायावती ने कहा कि जहां देश आर्थिक मंदी से जूझ रहा है, ऐसे में बेरोजगारी दूर करने के बजाय मोदी सरकार के मंत्री हास्यस्पद बयानबाजी कर रहे हैं। उत्तर भारतियों को रोजगार देने के बजाय केन्द्रीय मंत्री संतोष गंगवार का यह कहना है कि रोजगार की कमी नहीं बल्कि उनमें योग्यता की कमी है। ये बेहद ही शर्मनाक बयान है, इसके लिए उन्हे देश से माफी मांगनी चाहिए। वहीं कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने विरोध जताते हुए कहा कि मोदी सरकार का कार्यकाल 5 साल से ज्यादा हो चुका है, सरकार नौकरियां पैदा नही कर पाई और जो हैं वो आर्थिक मंदी के कारण छिन रही हैं। देश का युवा रोजगार की राह देख रहा है और मंत्री जी अपनी सरकार की नाकामी को छिपाने के लिए उत्तर भा​रतियों का अपमान करके निकलना चाहते हैं। अब ये नही चलने वाला। वहीं आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने भी मोदी सरकार के मंत्री के इस बेतुके बयान को उत्तर भारतीयों का अपमान बताया है. उन्होंने कहा अगर कहीं योग्यता की कमी है तो वो मोदी सरकार की योग्यता में कमी है। आखिर मंत्री क्यों नही बता रहे कि चौपट अर्थव्यवस्था के लिए जिम्मेदार कौन है।