1. हिन्दी समाचार
  2. राजनीति
  3. मायावती बोलीं- देश में मची त्राहि-त्राहि, भाजपा-कांग्रेस कर रही घिनौनी राजनीति

मायावती बोलीं- देश में मची त्राहि-त्राहि, भाजपा-कांग्रेस कर रही घिनौनी राजनीति

Mayawati Said Trouble And Discord In The Country Bjp And Congress Are Doing Abominable Politics

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा प्रमुख मायावती ने मंगलवार को भाजपा और कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा- जनता कोरोना महामारी से परेशान है और भाजपा-कांग्रेस घिनौनी राजनीति कर रही हैं। उन्होंने कहा कि संकट के इस समय पार्टियों को दलगत राजनीति से ऊपर उठकर देशहित में सोचना चाहिए।

पढ़ें :- भाजपा में जा कर बन गये है बैकबेंचर, कांग्रेस में होते तो सिंधिया बन सकते थे सीएम - राहुल

मायावती ने ट्वीट कर कहा- ”यह बड़े दुर्भाग्य की बात है कि कोरोना महामारी के चलते जब देश की जनता में त्राहि-त्राहि मची हुई है, तब भी खासकर भाजपा और कांग्रेस इसकी आड़ में घिनौनी राजनीति कर रहीं हैं। अब चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर भी इनमें आरोप-प्रत्यारोप जारी है, जो देशहित में उचित नहीं है।”


उन्होंने कहा- देश में कोरोना महामारी के इस अति-संकटकालीन दौर में भी वैसे तो सर्वसमाज के करोड़ों गरीब, श्रमिक वर्ग और मेहनतकश लोग सरकारी अनदेखी और प्रताड़ना झेल रहे हैं। ऐसे समय में भी खासकर यूपी में दलितों की आएदिन हत्या हो रही। उनका उत्पीड़न अति-दुःखद और अति-गंभीर बात है।

पढ़ें :- मिशन बंगाल: 18 मार्च को फिर बंगाल आयेंगे पीएम नरेंद्र मोदी, पुरूलिया में करेंगे रैली

2. चीन के साथ ही दूसरे पड़ोसी देश नेपाल के साथ भी सीमा विवाद अब काफी गंभीर रूप धारण करता जा रहा है। ऐसे में देश की सभी राजीतिक पार्टियों को दलगत राजनीति से ऊपर उठकर देशहित में ही सोचना चाहिए। साथ ही, ऐसे मामलों में यदि केन्द्र सरकार सबको विश्वास में लेकर चले तो यह बेहतर होगा।

मायावती ने टि्वट करके कहा- चीन के साथ ही दूसरे पड़ोसी देश नेपाल के साथ भी सीमा विवाद अब काफी गंभीर रूप धारण करता जा रहा है। ऐसे में देश की सभी राजीतिक पार्टियों को दलगत राजनीति से ऊपर उठकर देशहित में ही सोचना चाहिए। ऐसे मामलों में यदि केन्द्र सरकार सबको विश्वास में लेकर चले तो यह बेहतर होगा।

इससे पहले मायावती ने सोमवार को ट्वीट कर कहा कि दिल्ली देश की राजधानी है। यहां पूरे देश से लोग अपने जरूरी कामों से आते रहते हैं। ऐसे में यदि कोई व्यक्ति अचानक बीमार पड़ जाता है तो उसको यह कहकर इलाज की सुविधा न दी जाए कि वह दिल्ली का नहीं है…गलत है। यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण है और केंद्र को इसमें जरूर दखल देना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...