1. हिन्दी समाचार
  2. मायावती बोलीं-नागरिकता कानून का विरोध करेंगे, लेकिन हम हिंसा नहीं कर सकते, कई जिलों में इंटरनेट बंद

मायावती बोलीं-नागरिकता कानून का विरोध करेंगे, लेकिन हम हिंसा नहीं कर सकते, कई जिलों में इंटरनेट बंद

Mayawati Will Protest Against The Citizenship Law But We Cannot Do Violence Internet Is Closed In Many Districts

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने उत्तर प्रदेश की राजधानी और संभल में हुई हिंसा को लेकर सरकार को कठघरे में खड़ा किया। उन्होंने कहा कि हमने हमेशा नागरिकता संशोधन एक्ट का विरोध किया है और हम शुरू से ही इसका विरोध करते रहे हैं, लेकिन अन्य पार्टियों की तरह हम सार्वजनिक संपत्ति और हिंसा में विश्वास नहीं करते हैं।

पढ़ें :- महराजगंज:जनता ने मौका दिया तो क्षेत्र का होगा समग्र विकास: रवींद्र जैन

मायावती ने कहा कि मैं अपनी पार्टी के लोगों से अपील करती हूं कि इस समय में देश में व्याप्त इमर्जेंसी के दौरान सड़कों पर न उतरें, इसकी जगह विरोध के दूसरे तरीकों को अपना जाएं। बता दें कि, मायावती इस कानून का शुरू से विरोध कर रहीं हैं। वह इस एक्ट को वापस लेने की मांग कर रही हैं। वहीं, पूरे उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू है। जबकि गाजियाबाद, लखनऊ, मुजफ्फरनगर, बरेली, आजमगढ़ समेत कई जिलों में इंटरनेट बंद कर दिया गया है।

बता दें कि, यूपी में हुए ​हिंसा को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ ने सख्त रूख अपनाया है। सीएम ने हिंसक घटनाओं में शामिल दोषियों की संपत्तियां जब्त कर उनसे सावर्जनिक संपत्ति को हुए नुकसान का हर्जाना वसूलने का निर्देश दिया है। सीएम ने कहा कि वे हिंसक वारदातों की समीक्षा खुद कर रहे हैं। उपद्रवियों के चेहरे वीडियोग्राफी और सीसीटीवी में कैद हो चुके हैं। सभी पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने शांति की अपील करते हुए अफवाह फैलाने वालों पर निगरानी के निर्देश दिए हैं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...