मायावती अपने जन्मदिन पर ‘मेरे संघर्षमय जीवन का सफरनामा-15’ पुस्तक का करेंगी विमोचन

mayawati
मायावती अपने जन्मदिन पर 'मेरे संघर्षमय जीवन का सफरनामा-15' पुस्तक का करेंगी विमोचन

लखनऊ। 15 जनवरी, बुधवार को मायावती का 64वां जन्मदिन है। इस बार जन्मदिन के मौके पर मायावती अपनी पुस्तक ‘मेरे संघर्षमय जीवन का सफरनामा-15’ का विमोचन करेंगी। आपको बता दें कि बसपा सुप्रीमो मायावती के जन्मदिन को जनकल्याणकारी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस बार जन्मदिन के मोके पर मायावती प्रेस वार्ता भी करेंगी।

Mayawati Will Release The Book Journey Of My Struggle 15 Life On Her Birthday :

आपको बता दें कि जब मायावती उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री थी तो उनके जन्मदिन पर विशाल जनसभा का आयोजन किया जाता था और धूमधाम के साथ उनका जन्मदिन मनाया जाता था। लेकिन जबसे उनकी सरकार गयी तबसे इस जन्मदिवस को जनकल्याणकारी दिवस” के रूप में मनाया जाने लगा। इससे पहले 2019 में भी उन्होंने इस पुस्तक का विमोचन किया था। आपको बता दें कि इस पुस्तक को ब्लूबुक भी कहा जाता है। इस किताब के माध्यम से मायावती अगले 1 सालों तक के लिए अपने सियासी मुद्दो के बारे में अपने कार्यकर्ताओं को बताती हैं।

आपको बता दें कि जबसे मायावती सत्ता से दूर हुईं तबसे 2019 उनके लिए काफी अच्छा रहा। जहां 2014 लोकसभा चुनाव में बसपा पूरे प्रदेश में एक भी सीट हाशिल नही कर पायी थी वहीं मायावती ने 2019 में लोकसभा का चुनाव लड़ा और उत्तर प्रदेश में 10 सीटों पर विजय प्राप्त की। वहीं आपको बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बसपा का समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन था इसलिए उनका जन्मदिन काफी धूमधाम के साथ मनाया गया था। पिछली बार मायावती ने गठबन्धन को लेकर कार्यकर्ताओं को जागरूक किया था वही इस बार वो अपनी पार्टी को अकेले ही चुनाव का सफर तय करने के बारे में बतायेगी।

लखनऊ। 15 जनवरी, बुधवार को मायावती का 64वां जन्मदिन है। इस बार जन्मदिन के मौके पर मायावती अपनी पुस्तक 'मेरे संघर्षमय जीवन का सफरनामा-15' का विमोचन करेंगी। आपको बता दें कि बसपा सुप्रीमो मायावती के जन्मदिन को जनकल्याणकारी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस बार जन्मदिन के मोके पर मायावती प्रेस वार्ता भी करेंगी। आपको बता दें कि जब मायावती उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री थी तो उनके जन्मदिन पर विशाल जनसभा का आयोजन किया जाता था और धूमधाम के साथ उनका जन्मदिन मनाया जाता था। लेकिन जबसे उनकी सरकार गयी तबसे इस जन्मदिवस को जनकल्याणकारी दिवस" के रूप में मनाया जाने लगा। इससे पहले 2019 में भी उन्होंने इस पुस्तक का विमोचन किया था। आपको बता दें कि इस पुस्तक को ब्लूबुक भी कहा जाता है। इस किताब के माध्यम से मायावती अगले 1 सालों तक के लिए अपने सियासी मुद्दो के बारे में अपने कार्यकर्ताओं को बताती हैं। आपको बता दें कि जबसे मायावती सत्ता से दूर हुईं तबसे 2019 उनके लिए काफी अच्छा रहा। जहां 2014 लोकसभा चुनाव में बसपा पूरे प्रदेश में एक भी सीट हाशिल नही कर पायी थी वहीं मायावती ने 2019 में लोकसभा का चुनाव लड़ा और उत्तर प्रदेश में 10 सीटों पर विजय प्राप्त की। वहीं आपको बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बसपा का समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन था इसलिए उनका जन्मदिन काफी धूमधाम के साथ मनाया गया था। पिछली बार मायावती ने गठबन्धन को लेकर कार्यकर्ताओं को जागरूक किया था वही इस बार वो अपनी पार्टी को अकेले ही चुनाव का सफर तय करने के बारे में बतायेगी।