भ्रष्टाचार के उजागर से बौखला गई हैं मायावती: बीजेपी

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डा0 लक्ष्मीकांत बाजपेयी ने कहा कि बसपा संस्थापक काशीराम जी की पुण्यतिथि के अवसर पर बसपा सुप्रीमों मायावती जी द्वारा केन्द्र सरकार के बारे मंे लगाये गये आरोप पुरी तरह बेबुनियादी है और उनके द्वारा किया गया भ्रष्टाचार जब उजागर हो रहा है तो वह अपने बचाव में कुर्तक और तथ्यहीन बाते कर रही हैं।

प्रदेश अध्यक्ष डा0 बाजपेयी ने कहा कि आखिर क्यों यूपीए सरकार के समय जब सीबीआई द्वारा बाबू सिंह कुशवाहा, राकेश धर त्रिपाठी, रंगनाथ मिश्रा पर कार्यवाही की तो वह केन्द्र को समर्थन देने की डील में केवल खुद के बचाव के लिए चुप क्यों रही थी ? एनआरएचएम घोटाले में 74 एफआईआर हुई है और जांच प्रचलित है आखिर मायावती जी केवल पूछताछ से ही क्यों बौखला गयी, जबकि मायावती जी को बताना चाहिए कि अभी तक एनआरएचएम घोटाले से जुड़े हुए कितने लोगों की हत्यायें हुई है।

डा0 बाजपेयी ने कहा कि भारत में आरक्षण की जो संवैधानिक व्यवस्था है उसमें कोई परिवर्तन की पहल ही नही हैं फिर वह समाज को बांटने की बातें राजनैतिक स्वार्थ के लिए क्यों कर रही है। डा0 बाजपेयी ने कहा कि प्रदेश में साम्प्रदायिक तनाव की अभी तक 300 से ज्यादा घटनायें हो चुकी है फिर भी बहुजन समाज पार्टी की चुप्पी का कारण क्या है। प्रदेश में प्रमुख विपक्षी दल की भूमिका निभाने में संकोच के पीछे का कारण क्या है ?

डा0 बाजपेयी ने कहा कि दादरी काण्ड जो की बसपा सुप्रीमों मायावती जी के गृह क्षेत्र का मामला है। फिर भी बसपा सुप्रीमों की भूमिका स्पष्ट नहीं रही, वह राहुल यादव पर चुप क्यों है ? डा0 बाजपेयी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी समाजिक समरसता के प्रति संकल्पित है और सबका साथ-सबका विकास आज सम्पूर्ण देश में दिखाई देने लगा है। लोकसभा चुनाव के बाद विधानसभाओं के चुनावों में जनता ने जातिवादी राजनीति का सफाया किया है।

डा0 बाजपेयी ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी अपने भ्रष्टाचार में कार्यवाही से बचने के लिए समाजवादी पार्टी से गठजोड़ किया है। बसपा शासनकाल की 24 सिफारिश लोकायुक्त के द्वारा कार्यवाही के लिए प्रतिक्षा में हैं, उन्ही के चलते बसपा प्रदेश की जनता के साथ में धोखा कर रही है। आज प्रदेश दलितो पर अत्याचार हो रहा है और बसपा सुप्रीमों सहित पूरा दल केवल औपचारिक विरोध का अभिनय ही कर रहे है। आज उ0प्र0 में समाजवादी पार्टी की अराजकता के खिलाफ केवल और केवल सदन से लेकर सड़क तक केवल भारतीय जनता पार्टी ही संघर्ष कर रही हैं एवं पार्टी के कार्यकर्ता उत्पीड़न के खिलाफ लाठी खा रहे है, हवालात में बंद हो रहे है, जेल जा रहे है। बहुजन समाज पार्टी इसका जबाव दे ?