एनडीए आज घोषित करेगा अपने उप राष्ट्रपति उम्मीदवार का नाम

नई दिल्ली। राष्ट्रपति चुनाव के लिए सोमवार को देश की 31 विधानसभाओं और संसद में मतदान जारी है। इस बीच एनडीए की ओर से उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की घोषणा किए जाने की तैयारी पूरी की जा चुकी है। एनडीए ने उप राष्ट्रपति उम्मीदवार के नाम के लिए गठंबन्धन का नेतृत्व कर रही बीजेपी ने अपने सहयोगी दलों से रविवार को अंतिम बैठक की थी। इस बैठक में सभी सहयोगियों ने अपनी रॉय रखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को…

नई दिल्ली। राष्ट्रपति चुनाव के लिए सोमवार को देश की 31 विधानसभाओं और संसद में मतदान जारी है। इस बीच एनडीए की ओर से उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की घोषणा किए जाने की तैयारी पूरी की जा चुकी है। एनडीए ने उप राष्ट्रपति उम्मीदवार के नाम के लिए गठंबन्धन का नेतृत्व कर रही बीजेपी ने अपने सहयोगी दलों से रविवार को अंतिम बैठक की थी। इस बैठक में सभी सहयोगियों ने अपनी रॉय रखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को अपने विवेक से उम्मीदवार का नाम घोषित करने को कहा है।

मिली जानकारी के मुताबिक उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों के लिए मंलगवार को नामांकन का अंतिम दिन है। ऐसे में बीजेपी सोमवार शाम को राष्ट्रपति के लिए हो रहे मतदान की प्रक्रिया के समाप्त होने के साथ एनडीए के उम्मीवार के नाम की घोषणा कर देगी।

{ यह भी पढ़ें:- कर्नाटक : बीएस येदियुरप्पा ने दिया इस्तीफा, BJP की सरकार गिरी }

राजग द्वारा 18 विपक्षी दलों की सर्वसम्मति से महात्मा गांधी के पौत्र गोपालकृष्ण गांधी को अपना उम्मीदवार बनाया गया है। इस लिहाज से एनडीए के समाने कद्दावर चेहरे को अपना उम्मीदवार बनाने की चुनौती है। माना जा रहा है कि एनडीए वर्तमान में किसी सांसद को अपना उम्मीदवार घेषित कर सकती है। कयास तो ऐसे लगाए जा रहे हैं कि बीजेपी का उम्मीदवार राज्यसभा का सदस्य हो सकता है।

आपको बता दें कि उपराष्ट्रपति पद को लेकर बिहार से सांसद हुकुमदेव नारायण यादव के नाम को लेकर एकबार चर्चा का बाजार गरम रह चुका है। हुकुमदेव को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का समधी बताया जाता है। लेकिन कहा जा रहा है कि बीजेपी एक ऐसे चेहरे को अपना उम्मीदवार बनाना चाहती है जो राज्यसभा की प्रक्रिया संचालित करने में पूरी तरह से सक्षम हो।

{ यह भी पढ़ें:- कल शाम 4 बजे तक बहुमत साबित करें येदियुरप्पा: सुप्रीम कोर्ट }

जानिए कैसे होता है उपराष्ट्रपति का चुनाव —

भारत में राष्ट्रपति का चुनाव की प्रक्रिया जितनी जटिल उसके मुकाबले उपराष्ट्रपति का चुनाव बेहद सरल होता है। इस चुनाव में लोकसभा और राज्यसभा के चुनकर आए प्रत्याशी हिस्सा लेते है। यानी 776 वोटों के आधार पर नए उपराष्ट्रपति का चुनाव किया जाता है।

{ यह भी पढ़ें:- कर्नाटक चुनाव: जेडीएस कांग्रेस के सामने रख सकती हैं ये शर्तें }

Loading...