1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. अमेरिकी राष्ट्रपति की दौड़ में मीडिया मुगल ब्लूमबर्ग, ट्रंप को देंगे कड़ी टक्कर

अमेरिकी राष्ट्रपति की दौड़ में मीडिया मुगल ब्लूमबर्ग, ट्रंप को देंगे कड़ी टक्कर

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। अमेरिका (America) में अगले साल होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवारी के लिए न्यूयॉर्क सिटी के पूर्व मेयर माइकल ब्लूमबर्ग (Michael Bloomberg) ने रविवार को औपचारिक रूप से दावेदारी पेश की। इसी के साथ वह डेमोक्रेटिक पार्टी की उस भीड़ में शामिल हो गए हैं, जो न्यूयॉर्क के उनके साथी अरबपति ट्रंप को चुनौती देने की तैयारी कर रही है।

ब्लूमबर्ग ने रविवार को अपने वेब पेज पर कहा, मैं डोनाल्ड ट्रंप को हराने और अमेरिका के पुनर्निर्माण को राष्ट्रपति पद के लिए शुरुआत कर रहा हूं। इसी के साथ ब्लूमबर्ग ने करीब 3 करोड़ डॉलर का विज्ञापन अभियान भी चालू किया है। इस घोषणा के साथ ही ब्लूमबर्ग की मंशा को लेकर उठ रही अफवाहों पर भी विराम लग गया।

प्राथमिक मतदान में उम्मीदवार के तौर पर उतरने की योग्यता हासिल करने और संघीय चुनाव आयोग के साथ पंजीकृत होने के बावजूद ब्लूमबर्ग की तरफ से अपने दस्तावेज जमा कराने में कई सप्ताह लगा देने के कारण इन अफवाहों ने जोर पकड़ा था।

न्यूयॉर्क के पूर्व मेयर और करीब 50 अरब डॉलर की निजी संपत्ति के मालिक ब्लूमबर्ग ने अपनी घोषणा में कहा, हम राष्ट्रपति ट्रंप के लापरवाह और अनैतिक कदमों को चार और साल सहन नहीं कर सकते। वह हमारे देश और हमारे मूल्यों के अस्तित्व को खतरा पैदा कर रहे हैं। यदि वह ऑफिस में एक और कार्यकाल जीतते हैं, तो हम इस नुकसान की कभी पूर्ति नहीं कर पाएंगे।  

3 फरवरी से होगा मतदान

माना जा रहा है कि 77 वर्षीय ब्लूमबर्ग राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी (Democratic Party) के आधिकारिक प्रत्याशी बनने की होड़ में शामिल होने वाले आखिरी नेता हैं। प्रत्याशी चुनने का काम अगले साल तीन फरवरी से आयोवा कॉकस की प्राइमरी में मतदान से होगा।

मोदी के हैं अच्छे मित्र ब्लूमबर्ग

ब्लूमबर्ग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अच्छे दोस्त बताए जाते हैं। पिछले कई सालों से वे नियमित रूप से भारत आते रहे हैं। ब्लूमबर्ग ने कहा, ‘मैं डोनाल्ड ट्रंप को हराने और अमेरिका का दोबारा निर्माण करने के लिए राष्ट्रपति पद के लिए लड़ रहा हूं। हम और चार साल तक राष्ट्रपति ट्रंप के बिना सोचे समझे और अनैतिक कदमों को नहीं सह सकते। उन्होंने हमारे देश के अस्तित्व और हमारे मूल्यों के लिए खतरा पैदा कर दिया है।

ट्रंप के दोबारा जीतने से होगा नुकसान

अगर ट्रंप दोबारा जीतते हैं तो हम उनसे हुए नुकसान की कभी भरपाई नही कर पाएंगे। इससे अधिक खतरा कुछ और नहीं हो सकता। हम यह चुनाव जरूर जीतेंगे और हम अमेरिका के पुननिर्माण की शुरुआत करेंगे। मुझे अपने कारोबारी, प्रशासनिक और परोपकारी अनुभव पर भरोसा है जो मुझे जीतने और नेतृत्व करने में मदद करेगा।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...