1. हिन्दी समाचार
  2. मनोरंजन
  3. बॉलीवुड की खूबसूरत अभिनेत्री ही नहीं, बेहतरीन शायरा भी थी मीना कुमारी

बॉलीवुड की खूबसूरत अभिनेत्री ही नहीं, बेहतरीन शायरा भी थी मीना कुमारी

Meena Kumari Was Not Only The Beautiful Actress Of Bollywood But Also The Best Poet

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

मुंबई: बहुत कम लोग जानते है कि गुजरे जमाने की हिंदी सिनेमा की खूबसूरत अभिनेत्री मीना कुमारी अभिनय के साथ एक शायराना मिजाज भी रखती थी। हिंदी सिनेमा की ट्रेजडी क्वीन का खिताब पाने वाली अभिनेत्री मीना कुमारी असल जिंदगी में भी हमेशा ग़मों और तकलीफों से घिरी हुई रही। सिनेमा के पर्दे पर जिस तरह से दुःख भरे किरदारों को दर्शकों के सामने पेश किया है, तो वहीँ अपनी निजी जिंदगी के दर्द का इजहार करने के लिए मीना कुमारी ने शायरी का सहारा लिया।

पढ़ें :- इन अभिनेत्रियों को रास नहीं आई फिल्म जगत की रंगीन दुनिया, सब छोड़ कोई बनी नन तो कोई बनी साध्वी!

मीना कुमारी ने अपनी शायरी में जिंदगी की तन्हाईयों को बखूबी बयां किया है। उनकी मौत के बाद उनकी कुछ शायरी ‘नाज’ के नाम से छपी थी। मीना कुमारी की शायरी को गुलजार साहब ने ‘तन्हा चांद’ के नाम से संकलित किया है। बेहतरीन उर्दू शायरी का फ़न रखने वाली मीना कुमारी के बारे में मशहूर संगीतकार नौशाद ने कहा था कि ‘ जाहिरी तौर पर उनकी शायरी में नाराज़गी नज़र आती है।’

1 अगस्त 1932 को मुंबई में पैदा हुई मीना कुमारी ने चार साल की उम्र से ही परिवार की आर्थिक मदद के लिए एक बाल कलाकार के रूप में काम करना शुरू कर दिया था। जिसकी वजह से ठीक से पढ़ भी नहीं पायी। आगे चलकर फिल्मों में शोहरत तो हासिल हुई, परिवार की तंगी दूर हुई मगर, वो खुद जिंदगीभर दुखों की गिरफ्त से निकल नहीं पायी। अपनी जिंदगी में वह जितनी कांटों और दर्द भरी राहों से गुजरीं उसे ही उन्होंने शायरी में ढाल दिया।

दुखों के साथ मीना कुमारी को ‘इंसोम्निया‘ नामक बीमारी ने जकड लिया, जिससे उन्हें रातों को नींद नहीं आती थी। जिसकी वजह से वो नींद की गोलियां खाने लगी। उस समय डॉक्टर सईद तिमुरजा ने उन्हें नींद की गोलियों के बदले ब्रांडी पीने की सलाह दे दी। इस दवा को जहर बनते देर ना लगी और देखते-देखते मीना कुमारी ने शराब पीना शुरू कर दिया। जिसके बाद उन्हें साल १९६८ में लीवर की बीमारी ने जकड़ लिया।

तमाम उम्र दुश्वारियों से पीछा छुड़ाने की नाकाम कोशिशों में लगी रही मीना कुमारी को आख़िरी समय में बीमारी ने घेर लिया। लीवर की बीमारी से लड़ते-लड़ते ३१ मार्च १९७२ को महज ३८ साल की उम्र में वो इस दुनिया को छोड़कर चली गयी।

पढ़ें :- इन ऐक्ट्रेस ने प्यार को छोड़ चुना पैसा, करोड़पति लड़को से शादी कर बसाया अपना घर!

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...