1. हिन्दी समाचार
  2. मेरठ केस: पैसे के चक्कर में डॉक्टर ने कैंसर बताकर किया आपरेशन, जाने फिर क्या हुआ…

मेरठ केस: पैसे के चक्कर में डॉक्टर ने कैंसर बताकर किया आपरेशन, जाने फिर क्या हुआ…

Meerut Case The Doctor Underwent An Operation To Tell Cancer What Happened Then

By सोने लाल 
Updated Date

मेरठ। जैसा कि धरती का भगवान कहे जाने वाले डॉक्टर अज कल ऐसे-ऐसे कृत्य कर रहे हैं। जिनकी वजह से वह बदनाम हो रहे हैं। आज डॉक्टर पैसे के चक्कर में और लालच में अपनी आंखें बंद कर ले रहे हैं। सिर्फ पैसे के चक्कर में मरीजों से पैसा ऐंठना इन डॉक्टरों का काम हो गया है। इलाज में लापरवाही हो या कोई जांच सिर्फ पैसे की लूट का खसौट करते यह डॉक्टर नजर आ रहे हैं। मेरठ के कैलाशी हॉस्पिटल में भी ऐसा ही हुआ। जहां पर एक महिला कि बिना जांच किए ही ऑपरेशन कर दिया।

पढ़ें :- INSTAGRAM यूजर्स के लिए हैप्पी न्यूज़, अब कर सकेंगे 4 घंटे तक लाइव स्ट्रीमिंग

मामला मेरठ के थाना कंकरखेड़ा क्षेत्र बाईपास स्थित कैलाशी हॉस्पिटल का है। जहां पर पिछले महीने बागपत निवासी एक महिला का डॉक्टरों ने कैंसर का ऑपरेशन कर दिया। जबकि जांच रिपोर्ट बाद में आई जिसमें पता चला कि महिला को कैंसर है, लेकिन डॉक्टर ने उससे पहले ही महिला से पैसे ऐंठने की एवज में उसका ऑपरेशन कर दिया।

महिला के भतीजे अमित चौधरी ने बताया कि उसकी बुआ की छाती में दर्द था जिस को दिखाने के लिए वह सुभारती अस्पताल पहुंचे सुभारती अस्पताल में कार्यरत डॉ रानी बंसल ने महिला की जांच कराई। जिसकी रिपोर्ट रेडियोलॉजी डॉक्टर शरद जैन ने तैयार की जिसके बाद महिला को कैलाशी हॉस्पिटल के मालिक अजय मलिक से सांठगांठ करके कैलाशी में भर्ती कर दिया। जहां पर महिला का बिना जांच के ही ऑपरेशन कर दिया गया और महिला को कहा गया कि रोज इसकी पट्टी करानी होगी। जबकि बायोप्सी रिपोर्ट आने के बाद कैलाशी हॉस्पिटल के मालिक अजय मलिक ने कहा के रिपोर्ट में महिला की ब्रेस्ट में कैंसर के संकेत मिले हैं जिस कारण पूरी ब्रेस्ट निकालनी पड़ेगी।

अमित चौधरी ने बताया कि उसको डॉक्टर की बात पर शक हुआ और उसने वह रिपोर्ट मांगी जिसमें कैंसर के संकेत आए हैं, लेकिन अमित चौधरी को लगातार अजय मलिक रिपोर्ट जल्दी देने का बहाना बनाते रहे और एक हफ्ते बाद अमित चौधरी को रिपोर्ट दी गई। जब अमित चौधरी को वह रिपोर्ट दी गई तो अमित अपनी बुआ को लेकर ऋषिकेश स्थित एम्स अस्पताल पहुंचा जहां पर डॉक्टरों ने रिपोर्ट देखने के बाद कहा की ऐसी कोई बात नहीं है। यह बीमारी दवा से ही ठीक हो जाएगी। इसमें ब्रेस्ट निकालने की जरूरत नहीं है, जिसके बाद अमित चौधरी और उनकी बुआ ने अपने आप को ठगा हुआ महसूस किया।

महिला के भतीजे अमित चौधरी ने आज मेरठ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय साहनी को एक प्रार्थना पत्र देकर ऐसे डॉक्टरों के ग्रुप पर सख्त कार्रवाई करने की मांग की है तो वहीं प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के पदाधिकारी जीतू नागपाल और तमाम कार्यकर्ताओं ने भी सीएमओ का घेराव करते हुए जल्द से जल्द ऐसे जालसाज अस्पतालों और डॉक्टरों पर कार्रवाई करने की बात कही है। जिसके बाद मेरठ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ राजकुमार ने एक जांच कमेटी बनाकर कैलाशी हॉस्पिटल की जांच और ऐसे डॉक्टर के गिरोह के मामले से पर्दाफाश करने की बात कही। अब तो आने वाला समय ही बताएगा कि मेरठ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी कितनी जल्दी ऐसे भ्रष्ट और लालची डॉक्टरों पर और ऐसे जाल साज अस्पतालों पर कार्रवाई करते हैं।

पढ़ें :- प्रदेश के 29 जिलों में चलेगा दस दिवसीय अभियान, क्षय रोग उन्मूलन को लेकर सरकार प्रतिबद्ध

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...