चोरी का मुकदमा दर्ज कराने के लिए धरने पर बैठे भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष

laxmi-kant-bjp-leader
चोरी का मुकदमा दर्ज कराने के लिए धरने पर बैठे भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष

Meerut City Bjp Leader Laxmikant Vajpayee On Dharna Against His Government

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रहे वरिष्ठ नेता लक्ष्मी कान्त वाजपेयी को अपने क्षेत्र मेरठ में मुकदमा दर्ज कराने के लिए थाने के बाहर धरना देना पड़ गया। पुलिस की कार्यशैली से नाराज भाजपा नेता थाने के बाहर समर्थकों समेत धरने पर बैठ गए। मामला क्षेत्राधिकारी के संज्ञान में आने के बाद उन्होने मौके पर पहुंच कर मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया।

दरअसल, चोरी के एक मामले में एफआईआर दर्ज ना होने पर भाजपा के वरिष्ठ नेता लक्ष्मी कान्त वाजपेयी सिविल लाइंस थाने में धरने पर बैठ गए। आरोप है कि वादी के चोरी की दो बार तहरीर दिए जाने के एक माह बाद भी थाना सिविल लाइंस में मुकदमा दर्ज नहीं किया गया। इस पर वादी ने वाजपेयी से शिकायत की। वाजपेयी के थाने पर धरने पर बैठने की सूचना सीओ सिविल लाइंस राम अर्ज थाने पहंचे और एसओ को तत्काल मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए। सीओ का कहना है कि जांच मे दोषी पाए जाने वाले पुलिकर्मी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

अपनी सरकार और प्रशासन से नाराज हैं कई नेता-

आपको बता दें कि यह कोई पहला मामला नहीं है जब खुद भाजपा नेता और कार्यकर्ता अपनी ही सरकार ने नाराज नजर आए हों। योगी सरकार बनने के बाद भी भाजपाइयों और पुलिस प्रशासन के बीच तालमेल नहीं बन पा रहा है। माना जा रहा है कि अपनी सरकार की वजह से भाजपाइयों को बैकफुट पर रहना पड़ रहा है।

लक्ष्मीकांत का कहना है प्रदेश सरकार के स्पष्ट निर्देश के बावजूद पुलिस एवं प्रशासन के कुछ अधिकारी सरकार की छवि खराब करने का प्रयास कर रहे हैं। वह कहते हैं कि अगर अधिकारियों के इस रवैये से हम सरकार को अवगत नहीं कराएंगे तो कौन कराएगा?

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रहे वरिष्ठ नेता लक्ष्मी कान्त वाजपेयी को अपने क्षेत्र मेरठ में मुकदमा दर्ज कराने के लिए थाने के बाहर धरना देना पड़ गया। पुलिस की कार्यशैली से नाराज भाजपा नेता थाने के बाहर समर्थकों समेत धरने पर बैठ गए। मामला क्षेत्राधिकारी के संज्ञान में आने के बाद उन्होने मौके पर पहुंच कर मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया। दरअसल, चोरी के एक मामले में एफआईआर दर्ज ना होने पर…