1. हिन्दी समाचार
  2. यात्रा
  3. whistling village: व्हिस्लिंग विलेज क्यों बोला जाता इस गांव को, UN की बेस्‍ट टूरिज्‍म विलेज की कैटेगरी में नॉमिनेट हुई ये खूबसूरती

whistling village: व्हिस्लिंग विलेज क्यों बोला जाता इस गांव को, UN की बेस्‍ट टूरिज्‍म विलेज की कैटेगरी में नॉमिनेट हुई ये खूबसूरती

प्राकृतिक सौन्दर्य (natural beauty) से भरपूर मेघालय राज्य (Meghalaya State) की संस्कृति (Culture) की चर्चा दूर देश में होती है। मेघलाय Meghalaya) के एक गांव कोंगथोंग (Culture) में वर्षों से एक अनूठी संस्कृति (unique culture )चली आ रही है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

whistling village: प्राकृतिक सौन्दर्य (natural beauty) से भरपूर मेघालय राज्य (Meghalaya State) की संस्कृति (Culture) की चर्चा दूर देश में होती है। मेघलाय Meghalaya) के एक गांव कोंगथोंग (Culture) में वर्षों से एक अनूठी संस्कृति (unique culture )चली आ रही है। सदियों पुरानी परंपरा (centuries old tradition) का पालन करने वाले कोंगथोंग के लोग गा कर आपस में बात करते हैं। इस गांव के हर निवासी का नाम एक धुन (Melody) है। यहां माताएं अपने बच्चे का आम नाम न रख कर उसे गाना गा कर पुकारती हैं। इस कारण कोंगथोंग को व्हिस्लिंग विलेज कहाजाता है।

पढ़ें :- हिन्दी दिवस 2021:14 सितंबर को ही हिंदी दिवस क्यों मनाया जाता है? जानिए इसका महत्व
Jai Ho India App Panchang

कोंगथोंग गांव में जब बच्चे का जन्म होता है तो मां के दिल से जो भी धुन निकलती है वह बच्चे के नाम हो जाती है और यह प्रथा वाकई दिल को छू लेने वाली है। गांव में बातें कम और धुनें अधिक सुनाई देती हैं। यहां लोगों के नाम नहीं होते बल्कि उन्हें पुकारने के लिए धुन का इस्तेमाल किया जाता है।

मेघालय के शिलांग से 65 किमी दूर कोंगथोंग गांव के प्रत्येक व्यक्ति के दो नाम हैं। एक शब्दों में, दूसरा सीटी की धुन के रूप में। सदियों पुरानी परंपरा जीवित है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...