महबूबा मुफ्ती बोलीं: बीजेपी को जवानों और कश्मीरियों की कोई चिंता नहीं

mahbuba mufti
जम्मू-कश्मीर: फारूक अब्दुल्ला और उमर के बाद आज रिहा हो सकती हैं PDP प्रमुख महबूबा मुफ्ती

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद से कई बड़े नेता नजरबंद हैं। इसी बीच ब्‍लॉक विकास परिषदों के चुनावों का ऐलान हो गया है। पीडीपी नेता जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने गुरुवार को भाजपा पर बड़ा हमला बोला है। महबूबा ने बीजेपी पर वोटों के लिए आर्मी कार्ड खेलने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी को न सेना के जवानों की चिंता है और न ही कश्मीरियों की, उसे सिर्फ चुनाव जीतने से मतलब है। इस बीच राज्य में आज से पर्यटकों को आने की अनुमति दे दी गई है।

Mehbooba Mufti Said Bjp Is Not Worried About Soldiers And Kashmiris :

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट किया है कि अगर कश्मीर में सब कुछ सामान्य है तो वहां 9 लाख सैनिक क्या कर रहे हैं? वे पाकिस्तान की ओर से होने वाले किसी हमले को रोकने के लिए वहां नहीं हैं, बल्कि विरोध प्रदर्शन को दबाने के लिए हैं। सेना की प्राथमिक जिम्मेदारी सीमाओं की सुरक्षा करना है, न कि असंतोष को कुचलना।

महबूबा मुफ्ती की ओर से उनकी बेटी इल्तिजा ने गुरुवार को ट्वीट करके कहा कि सच्चाई यह है कि कश्मीरियों को तोपों का चारा माना जाता है। घाटी में अशांति फैलाने के लिए सेना को मोहरे की तरह इस्तेमाल किया जाता है। सत्तारूढ़ दल को न तो जवानों और न ही कश्मीरियों की कोई चिंता है। उन्हें सिर्फ चुनाव जीतने की चिंता है।

राज्य से अनुच्छेद 370 हटने के बाद पर्यटकों के यहां आने पर पाबंदी लगा दी गई थी। लेकिन सरकार ने कश्मीर में स्थिति को सामान्य होता देख एडवाइजरी वापस ले ली। अब पर्यटक घाटी में घूमने जा सकेंगे। उन्हें पूरी सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

राज्य में 24 अक्टूबर को हैं चुनाव

गौरतलब है कि चुनाव आयोग की जारी अधिसूचना के अनुसार राज्य में ब्‍लॉक विकास परिषदों के चुनाव 24 अक्टूबर को चुनाव होंगे। अधिसूचना के मुताबिक, नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 9 अक्टूबर है, जबकि नामांकन पत्रों की जांच 10 अक्टूबर को की जाएगी। नामांकन वापस लेने की तारीख 11 अक्टूबर है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि 24 अक्टूबर को सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक मतदान होगा। मतगणना भी उसी दिन दोपहर 3 बजे से शुरू हो जाएगी।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद से कई बड़े नेता नजरबंद हैं। इसी बीच ब्‍लॉक विकास परिषदों के चुनावों का ऐलान हो गया है। पीडीपी नेता जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने गुरुवार को भाजपा पर बड़ा हमला बोला है। महबूबा ने बीजेपी पर वोटों के लिए आर्मी कार्ड खेलने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी को न सेना के जवानों की चिंता है और न ही कश्मीरियों की, उसे सिर्फ चुनाव जीतने से मतलब है। इस बीच राज्य में आज से पर्यटकों को आने की अनुमति दे दी गई है। महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट किया है कि अगर कश्मीर में सब कुछ सामान्य है तो वहां 9 लाख सैनिक क्या कर रहे हैं? वे पाकिस्तान की ओर से होने वाले किसी हमले को रोकने के लिए वहां नहीं हैं, बल्कि विरोध प्रदर्शन को दबाने के लिए हैं। सेना की प्राथमिक जिम्मेदारी सीमाओं की सुरक्षा करना है, न कि असंतोष को कुचलना। महबूबा मुफ्ती की ओर से उनकी बेटी इल्तिजा ने गुरुवार को ट्वीट करके कहा कि सच्चाई यह है कि कश्मीरियों को तोपों का चारा माना जाता है। घाटी में अशांति फैलाने के लिए सेना को मोहरे की तरह इस्तेमाल किया जाता है। सत्तारूढ़ दल को न तो जवानों और न ही कश्मीरियों की कोई चिंता है। उन्हें सिर्फ चुनाव जीतने की चिंता है। राज्य से अनुच्छेद 370 हटने के बाद पर्यटकों के यहां आने पर पाबंदी लगा दी गई थी। लेकिन सरकार ने कश्मीर में स्थिति को सामान्य होता देख एडवाइजरी वापस ले ली। अब पर्यटक घाटी में घूमने जा सकेंगे। उन्हें पूरी सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

राज्य में 24 अक्टूबर को हैं चुनाव

गौरतलब है कि चुनाव आयोग की जारी अधिसूचना के अनुसार राज्य में ब्‍लॉक विकास परिषदों के चुनाव 24 अक्टूबर को चुनाव होंगे। अधिसूचना के मुताबिक, नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 9 अक्टूबर है, जबकि नामांकन पत्रों की जांच 10 अक्टूबर को की जाएगी। नामांकन वापस लेने की तारीख 11 अक्टूबर है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि 24 अक्टूबर को सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक मतदान होगा। मतगणना भी उसी दिन दोपहर 3 बजे से शुरू हो जाएगी।