मेरी हत्या की साजिश हो सकती है, 10 वर्ष पहले भी रचा जा चुका है षडयंत्र: मुख्तार अंसारी

लखनऊ| विधानसभा में मिले विस्फोटक पदार्थ ने सूबे की सुरक्षा एजेंसियों की नींदें उड़ा दी हैं| एक तरफ जहां इस घटना के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस विषय पर चिंता जाहिर की हैं वहीं विपक्षी नेता व बसपा के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी ने इस घटना पर शक जाहिर करते हुए कहा है कि यूपी विधानसभा परिसर में मिला विस्फोटक पदार्थ उन्हें ही मारने के लिए रखा गया था। उन्होंने कहा, मुझे तो ये शक है कि मेरी हत्या करने के लि‌ए ये षडयंत्र रचा गया था और इसी‌लिए ये बम बारूद रखा गया था। जब जांच होगी तो आप देखेंगे, इस तरह की सच्चाई सामने आएगी। एनआईए जांच कर रही है तो जल्द सच्चाई सामने आएगी।

अंसारी ने कहा, ‘‘ मैं मुख्यमंत्री को बधाई देता हूं कि इस घटना को गंभीरता से लिया है और सबसे बड़ी जांच एजेंसी एनआईए से जांच करवाने की बात कही है। साथ ही उन्होंने कहा कि ये कोई मामूली घटना नहीं है ये आतंकवादी घटना है। उन्होंने आगे कहा कि ये घटना कोई मामूली घटना नहीं बल्कि आतंकी घटना है। सत्ता पक्ष की तरफ मिलना या विपक्ष की तरफ मिलना, हम सभी सदस्य एक समान हैं। घटना की सच्चाई सामने आना चाहि‌ए। मुख्तार ने कहा, हम ये कहना चाहेंगे कि गाडिय़ों के लिए कहा गया है कि सदस्य और ड्राइवर आएगा लेकिन कभी-कभी ड्राइवर बीमार हो जाता है तो सभी 403 विधायकों को ड्राइवर ही मुहैया करा दें जो हमें विधानसभा लेकर आया करेगा। विधानसभा वाले अधिकारियों और मीडिया को भी ड्राइवर मिलना चाहिए।

{ यह भी पढ़ें:- अब एक साथ होंगे लोकसभा-विधानसभा चुनाव, EC ने दिये संकेत }

मुख्तार अंसारी ने कहा, ‘‘मैं इसलिए कह रहा हूं कि आज से 10 साल पहले मेरी हत्या की साजिश इसी सदन में रची गई थी। अपराधी पकड़ा गया था जिसका नाम था राजू तिवारी। बाद में एसटीएफ ने उसका एनकाउंटर किया था। इसमें शामिल बाकी अपराधी बचे हैं। मुझे लग रहा है कि मेरे खिलाफ भी ये साज‌िश हो सकती है। उस वक्त मुलायम सिंह नेता सदन थे उन्होंने एसटीएफ से जांच करवाई थी। मैं ये कहना चाहूंगा कि उस जांच को भी शामिल किया जाए। ये कोई मामूली घटना नहीं है। यहां अगर कोई मामूली घटना हो जाएगी तो कहीं भी कोई आदमी सुरक्षि‌त नहीं रहेगा।

{ यह भी पढ़ें:- लखनऊ मेट्रो और राजनीति }