बीजेपी नेता को सबक सिखाने वाली लेडी सिंघम का सीएम योगी को संदेश

लखनऊ। यूपी में जिस प्रशासनिक अधिकारी ने नेताओं को उनकी औकात याद दिलाने का साहस दिखाया उसे इनाम के रूप में या ट्रांसफर नसीब हुआ है या फिर निलंबन। यह तो यूपी का इतिहास रहा है कि जब भी किसी प्रशासनिक अधिकारी ने किसी सत्ताधारी को सबक सिखाना चाहा है उसे मुंह की खानी पड़ी है। सरकार चाहे जो भी हो नियम यही रहा है। अब एक फिर ऐसा ही कुछ योगी सरकार में देखने को मिला है। दरअसल, पिछले महीने उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में ट्रैफिक नियम तोड़ने पर बीजेपी नेता का चालान करने वाली महिला पुलिस अधिकारी का तबादला कर दिया गया है। बुलंदशहर के स्याना में सीओ के पद पर तैनात श्रेष्ठा सिंह को बहराइच भेज दिया गया है। बताते चले कि ट्रैफिक नियम तोड़ने पर बीजेपी नेता ने पहले अपनी सत्ता की हनक दिखा श्रेष्ठा की बोलती बंद करना चाहा था जिस पर पलटवार करते हुए इस महिला अधिकारी ने इस बीजेपी नेता की बीच बजार छीछालेदार कर दी। यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद लोगों ने इस महिला अफसर के कार्यशैली को जमकर सराहा साथ ही इसे लेडी सिंघम तक की उपाधि दे डाली।

अपने तबादले के बाद इस पर पहली बार प्रतिक्रिया देते हुए इस महिला अफसर ने अपने एफ़बी वाल पर पोस्ट करते हुए लिखा है कि ”जहां भी जाए गा,रौशनी लुटाए गा। किसी चराग का अपना मकां नहीं होता।। इस लाइन से इस महिला अफसर ने साफ कर दिया है कि ऐसे तबादले कर मेरे कार्यशैली या मंशा नहीं बदली जा सकती। आने वाले समय में जहां भी काम करने का मौका मिलेगा इसी लगन के साथ करती रहूँगी।

{ यह भी पढ़ें:- सोशल मीडिया की अफवाह पर प्रशासन की सख्ती, ग्रुप एडमिन को करना होगा रजिस्ट्रेशन }

इसके साथ अपने समर्थकों को संदेश देते हुए इस महिला अफसर ने लिखा है कि बहराइच ट्रांसफर कर दिया गया है, यह नेपाल बॉर्डर पर है। मेरे दोस्तों चिंता मत करिए मैं खुश हूं, मैं अपने अच्छे कामों के लिए इस पुरस्कार को स्वीकार करती हूं। बहराइच में आप सब आमंत्रित हैं।”

{ यह भी पढ़ें:- स्वास्थ्य लाभ ले रहे अरूण जेटली ने सोशल मीडिया से विपक्ष को बनाया निशाना, कहीं ये बाते... }

लखनऊ। यूपी में जिस प्रशासनिक अधिकारी ने नेताओं को उनकी औकात याद दिलाने का साहस दिखाया उसे इनाम के रूप में या ट्रांसफर नसीब हुआ है या फिर निलंबन। यह तो यूपी का इतिहास रहा है कि जब भी किसी प्रशासनिक अधिकारी ने किसी सत्ताधारी को सबक सिखाना चाहा है उसे मुंह की खानी पड़ी है। सरकार चाहे जो भी हो नियम यही रहा है। अब एक फिर ऐसा ही कुछ योगी सरकार में देखने को मिला है। दरअसल, पिछले…
Loading...