भारतीय पक्ष को निश्चित तौर पर नुकसान हुआ: पाकिस्तानी सेना

इस्लामाबाद| पाकिस्तानी सेना ने शनिवार को कहा कि इस बात में कोई शक नहीं कि सीमा पार से भारत द्वारा गोलीबारी का पाकिस्तान के जवाब देने के दौरान भारतीय पक्ष को काफी नुकसान पहुंचा है। गोलीबारी में पाकिस्तानी सेना के दो सैनिक मारे गए थे। पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू एवं कश्मीर में इंटर-सर्विसिस पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल असीम बाजवा ने संवाददाताओं से कहा कि भारतीय सेना अपनी सेना को हुए नुकसान को स्वीकार नहीं कर रहा है।




उन्होंने कहा, “हम निश्चित तौर पर कह सकते हैं कि उन्हें नुकसान पहुंचा है। लेकिन वे इसे क्यों स्वीकार नहीं कर रहे हैं, यह एक सवाल है, जिसका उन्हें जबाब देने की जरूरत है।” पाकिस्तान सेना जमीनी हकीकत से रूबरू कराने के लिए पत्रकारों को भीमबेर से 20 किलोमीटर दूर नियंत्रण रेखा के बागशीर इलाके में ले गई थी। आईएसपीआर के महानिदेशक ने पत्रकारों को संवाददाता सम्मेलन के लिए बुलाया था।

बाजवा ने कहा कि युद्ध किसी के हित में नहीं है। उन्होंने कहा कि नियंत्रण रेखा पर भारतीय गोलीबारी का पाकिस्तानी सेना ने करारा जवाब दिया। उन्होंने कहा, “हमने अपनी मातृभूमि को बचाया है और भविष्य में भी ऐसा करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं।” बाजवा ने कहा कि जिस इलाके में सर्जिकल स्ट्राइक का दावा किया जा रहा है, वहां भारतीय सैनिकों की घुसपैठ नामुमकिन है और उस इलाके की इस कदर निगरानी की जाती है कि परिंदा भी पर नहीं मार सकता।

उन्होंने पाकिस्तानी सरजमीं पर पैराट्रपर के प्रवेश से इंकार किया। आप सभी ने सुना है कि पाकिस्तान में पैराट्रपर उतरे थे। लेकिन फिर वे गए कहां? पाकिस्तान सेना किसी को घुसपैठ करने और यूं ही जाने नहीं देगी। भारत ने गुरुवार को कहा कि भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकवादियों के लॉन्च पैड पर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया, लेकिन पाकिस्तान ने अपनी सरजमीं पर किसी तरह की सर्जिकल स्ट्राइक से इंकार किया है। भारतीय सेना ने बाद में अपने बयान में कहा, “37 राष्ट्रीय राइफल्स का एक जवान अनजाने में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की तरफ चला गया।”