खनन घोटाला : दो आईएएस अफसरों समेत 12 लोगों पर ईडी ने दर्ज किया केस, बढ़ेंगी मुश्किलें

mining
खनन घोटाला : दो आईएएस अफसरों समेत 12 लोगों पर ईडी ने दर्ज किया केस, बढ़ेंगी मुश्किलें

लखनऊ। सहारनपुर में अवैध खनन मामले में सीबीआई के बाद अब ईडी ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। खनन घोटाले में ईडी ने दो आईएएस समेत 12 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। ईडी इससे पहले शामली, कौशांबी, हमीरपुर, फतेहपुर, देवरिया के मामले में भी मनी लॉउंन्ड्रिंग ऐक्ट के तहत केस दर्ज करवा चुकी है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सीबीआई की एफआईआर को ही आधार बनाया है।

Mining Scam Ed Files Case Against 12 People Including Two Ias Officers :

इसके आधार पर ईडी ने सहानरपुर के पूर्व डीएम पवन कुमार व अजय कुमार सिंह, पूर्व बीएसपी एमएलसी मोहम्मद इकबाल के बेटे मोहम्मद वाजिद, सहारनपुर निवासी महमूद अली, दिलशाद, मोहम्मद इनाम, महबूब आलम (मृत), अमित जैन, विकास अग्रवाल, मुकेश जैन व पुनीत जैन के खिलाफ मनी लॉउन्ड्रिंग ऐक्ट के तहत केस दर्ज किया है। आरोप है कि दोनों डीएम ने सहारनपुर में 2012 से 2015 के बीच नियमों की अनदेखी कर अपराधिक षडयंत्र रचते हुए 13 खनन पट्टों के नवीनीकरण किया था। अब ईडी नामजद लोगों से जल्द पूछताछ करेगी।

जानकारी के अनुसार, 30 सितंबर को सीबीआई द्वारा एफआईआर दर्ज कर एक अक्टूबर को सहारनपुर और लखनऊ समेत 11 स्थानों पर छापे मारी की थी। इसी के बाद प्रवर्तन निदेशालय ने भी केस दर्ज करने के लिए अपने मुख्यालय से अनुमति मांगी थी। केंद्र से अनुमति मिलने के बाद अब इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। एफआईआर में दो आईएएस अधिकारी अजय कुमार सिंह और पवन कुमार को नामजद किया है। दोनों ही पूर्व में सहारनपुर में जिलाधिकारी के पद पर तैनात रह चुके हैं।

अवैध खनन और मनी लॉन्ड्रिंग कनेक्शन खंगाल रही ईडी
खनन घोटाले की जांच कर रही सीबीआई के बाद अब ईडी ने कार्रवाई शुरू कर दी है। ईडी चार जिलों में अवैध खनन और मनी लॉन्ड्रिंग कनेक्शन तलाशने के लिए केस दर्ज कर चुकी है। इन मामलों में अजय और पवन को लेकर अब तक आठ आईएएस अधिकारियों को नामजद किया जा चुका है। ईडी ने पूर्व में हमीरपुर के मामले में एफआईआर दर्ज की थी और बी चंद्रकला समेत कई लोगों को नामजद किया था। इसके बाद फतेहपुर और देवरिया के मामलों में भी पांच आईएएस अधिकारियों को नामजद किया जा चुका है। एक मामला कौशांबी का भी दर्ज किया गया है, लेकिन उसमें किसी आईएएस अधिकारी को नामजद नहीं किया गया है।

इन 8 आईएएस अफसरों पर दर्ज हो चुका है केस
बी चंद्रकला, अजय और पवन के अलावा फतेहपुर के जिलाधिकारी रहे अभय, देवरिया के जिलाधिकारी रहे विवेक, देवरिया में अपर जिलाधिकारी रहे देवी शरण उपाध्याय, विशेष सचिव खनन संतोष राय और प्रमुख सचिव खनन रहे जीवेश नंदन का नाम शामिल है। देवरिया और फतेहपुर में दर्ज मुकदमों में पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति भी नामजद हैं।

लखनऊ। सहारनपुर में अवैध खनन मामले में सीबीआई के बाद अब ईडी ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। खनन घोटाले में ईडी ने दो आईएएस समेत 12 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। ईडी इससे पहले शामली, कौशांबी, हमीरपुर, फतेहपुर, देवरिया के मामले में भी मनी लॉउंन्ड्रिंग ऐक्ट के तहत केस दर्ज करवा चुकी है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सीबीआई की एफआईआर को ही आधार बनाया है। इसके आधार पर ईडी ने सहानरपुर के पूर्व डीएम पवन कुमार व अजय कुमार सिंह, पूर्व बीएसपी एमएलसी मोहम्मद इकबाल के बेटे मोहम्मद वाजिद, सहारनपुर निवासी महमूद अली, दिलशाद, मोहम्मद इनाम, महबूब आलम (मृत), अमित जैन, विकास अग्रवाल, मुकेश जैन व पुनीत जैन के खिलाफ मनी लॉउन्ड्रिंग ऐक्ट के तहत केस दर्ज किया है। आरोप है कि दोनों डीएम ने सहारनपुर में 2012 से 2015 के बीच नियमों की अनदेखी कर अपराधिक षडयंत्र रचते हुए 13 खनन पट्टों के नवीनीकरण किया था। अब ईडी नामजद लोगों से जल्द पूछताछ करेगी। जानकारी के अनुसार, 30 सितंबर को सीबीआई द्वारा एफआईआर दर्ज कर एक अक्टूबर को सहारनपुर और लखनऊ समेत 11 स्थानों पर छापे मारी की थी। इसी के बाद प्रवर्तन निदेशालय ने भी केस दर्ज करने के लिए अपने मुख्यालय से अनुमति मांगी थी। केंद्र से अनुमति मिलने के बाद अब इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। एफआईआर में दो आईएएस अधिकारी अजय कुमार सिंह और पवन कुमार को नामजद किया है। दोनों ही पूर्व में सहारनपुर में जिलाधिकारी के पद पर तैनात रह चुके हैं। अवैध खनन और मनी लॉन्ड्रिंग कनेक्शन खंगाल रही ईडी खनन घोटाले की जांच कर रही सीबीआई के बाद अब ईडी ने कार्रवाई शुरू कर दी है। ईडी चार जिलों में अवैध खनन और मनी लॉन्ड्रिंग कनेक्शन तलाशने के लिए केस दर्ज कर चुकी है। इन मामलों में अजय और पवन को लेकर अब तक आठ आईएएस अधिकारियों को नामजद किया जा चुका है। ईडी ने पूर्व में हमीरपुर के मामले में एफआईआर दर्ज की थी और बी चंद्रकला समेत कई लोगों को नामजद किया था। इसके बाद फतेहपुर और देवरिया के मामलों में भी पांच आईएएस अधिकारियों को नामजद किया जा चुका है। एक मामला कौशांबी का भी दर्ज किया गया है, लेकिन उसमें किसी आईएएस अधिकारी को नामजद नहीं किया गया है। इन 8 आईएएस अफसरों पर दर्ज हो चुका है केस बी चंद्रकला, अजय और पवन के अलावा फतेहपुर के जिलाधिकारी रहे अभय, देवरिया के जिलाधिकारी रहे विवेक, देवरिया में अपर जिलाधिकारी रहे देवी शरण उपाध्याय, विशेष सचिव खनन संतोष राय और प्रमुख सचिव खनन रहे जीवेश नंदन का नाम शामिल है। देवरिया और फतेहपुर में दर्ज मुकदमों में पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति भी नामजद हैं।