UP: संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हुई छात्रा, पुलिस ने थाने से भगाया

मथुरा। योगी सरकार सूबे में कानून व्यवस्था को पटरी पर लाने का दावा तो कर रही है, लेकिन प्रशासनिक अमला सरकार के दावों पर पानी फेरने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहा। दरअसल, मथुरा में एक नाबालिक लड़की संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गयी थी। पीड़ित परिजनो ने थाने में जाकर
मामले की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने मदद के बजाए उल्टा पीड़ितों को लताड़कर थाने से बाहर निकाल दिया। गुस्साये परिजनो ने हाईवे जामकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। जाम हटाने को लेकर पुलिस और पीड़ित परिजनो के बीच पथराव भी हुआ।

मामला मथुरा के लाजपत नगर का है। यहां के निवासी प्रदीप चौधरी सेना में हवलदार पद से रिटायर हैं। परिजनो का कहना है, उनकी नाबालिक बेटी सुबह स्कूल जाने के लिए घर से निकली थी, दोपहर तक वो घर वापस नहीं लौटी। किसी अनहोनी के डर से परिजनो ने स्कूल में जाकर पता किया। स्कूल मे मौजूद चौकीदार ने बताया कि छुट्टी के वक़्त छात्रा स्कूल से निकली थी। घबराये परिजनो ने छात्रा के सभी दोस्तों के घर जाकर पता किया फिर भी उसका कुछ पता नहीं चला।

{ यह भी पढ़ें:- लखनऊ समेत कई शहरों में नवरात्र की धूम, ऐसे करें आदिशक्ति की उपासना }

हार मानकर परिजन थाने पहुंचे और बेटी के लापता होने की रिपोर्ट दर्ज करने की बात कही। पुलिस ने पीड़ित परिवार की मदद करने के बजाय उन सभी को फटकार लगाकर थाने से बाहर निकाल दिया। जिसके बाद परिजनो ने हाईवे जामकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लोगों पर लाठी चार्ज कर दिया। आक्रोशित लोगों ने भी जमकर पुलिस वालों का विरोध किया और पथराव भी किया।

उधर, हाईवे थाना प्रभारी जीसी तिवारी का कहना है, हाईवे जाम होने की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और जाम लगा रहे लोगों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन परिजन इस कदर आक्रोशित हैं कि वह पुलिस की सुनने को तैयार ही नहीं है।

{ यह भी पढ़ें:- यूपी में 29 IPS अफसरों का तबादला, यहां देखें लिस्ट }