यमन: हूती विद्रोही ने मस्‍जिद को बनाया निशाना, नमाज पढ़ रहे 80 जवानों की मौत

yaman
यमन: हूती विद्रोही ने मस्‍जिद को बनाया निशाना, नमाज पढ़ रहे 80 जवानों की मौत

नई दिल्ली। मारिब प्रांत में ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों ने शनिवार को बैलिस्टिक मिसाइलों और ड्रोन से हमला किया। इसमें यमन के 80 सैनिक मारे गए। यह हमला मारिब  (Marib) के केंद्रीय प्रांत में स्‍थित एक मस्‍जिद  (Mosque) पर की गई। यह जानकारी मेडिकल व मिलिट्री सूत्रों ने रविवार को दी। शनिवार को मारिब में मिलिट्री कैंप (Millitary Camp)  में स्‍थित एक मस्‍जिद पर हूतियों ने हमला कर दिया। यह इलाका सना  (Sanaa) के 170 किमी पूर्व में है। यह हमला शाम में प्रार्थना के दौरान किया गया है।

Missile And Drones Attack Mosque In Yemen 80 Soldiers Studying Namaz :

हमले में 150 के करीब लोग घायल भी हुए हैं। माना जाता है कि हूती विद्रोहियों को ईरान का समर्थन हासिल है। सऊदी अरब के नेतृत्व वाले सैन्य गठबंधन के समर्थन वाली यमन सरकार से जारी जंग में पिछले कुछ महीनों से शांति थी। जानकारी के मुताबिक हूती विद्रोहियों ने सना के पूर्व में करीब 170 किलोमीटर दूर मारिब में शाम को नमाज के दौरान एक सैन्य शिविर पर हमला किया।

इस हमले से एक दिन पहले सरकारी बलों ने सना के उत्तर में स्थित नाहम क्षेत्र में हूती विद्रोहियों के खिलाफ एक बड़ा अभियान चलाया था। यमन के राष्ट्रपति अबेदरब्बो मंसूर हादी ने इस कायराना और आतंकवादी हमले की निंदा की है। एक समाचार वेबसाइट ने राष्ट्रपति के हवाले से कहा कि हूती मिलिशिया का यह शर्मनाक कदम इस बात की पुष्टि करता है कि वे शांति नहीं चाहते। उन्हें मौत और विनाश के अलावा कुछ नहीं आता। ये लोग इस क्षेत्र में ईरान का घटिया हथियार है।  

नई दिल्ली। मारिब प्रांत में ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों ने शनिवार को बैलिस्टिक मिसाइलों और ड्रोन से हमला किया। इसमें यमन के 80 सैनिक मारे गए। यह हमला मारिब  (Marib) के केंद्रीय प्रांत में स्‍थित एक मस्‍जिद  (Mosque) पर की गई। यह जानकारी मेडिकल व मिलिट्री सूत्रों ने रविवार को दी। शनिवार को मारिब में मिलिट्री कैंप (Millitary Camp)  में स्‍थित एक मस्‍जिद पर हूतियों ने हमला कर दिया। यह इलाका सना  (Sanaa) के 170 किमी पूर्व में है। यह हमला शाम में प्रार्थना के दौरान किया गया है। हमले में 150 के करीब लोग घायल भी हुए हैं। माना जाता है कि हूती विद्रोहियों को ईरान का समर्थन हासिल है। सऊदी अरब के नेतृत्व वाले सैन्य गठबंधन के समर्थन वाली यमन सरकार से जारी जंग में पिछले कुछ महीनों से शांति थी। जानकारी के मुताबिक हूती विद्रोहियों ने सना के पूर्व में करीब 170 किलोमीटर दूर मारिब में शाम को नमाज के दौरान एक सैन्य शिविर पर हमला किया। इस हमले से एक दिन पहले सरकारी बलों ने सना के उत्तर में स्थित नाहम क्षेत्र में हूती विद्रोहियों के खिलाफ एक बड़ा अभियान चलाया था। यमन के राष्ट्रपति अबेदरब्बो मंसूर हादी ने इस कायराना और आतंकवादी हमले की निंदा की है। एक समाचार वेबसाइट ने राष्ट्रपति के हवाले से कहा कि हूती मिलिशिया का यह शर्मनाक कदम इस बात की पुष्टि करता है कि वे शांति नहीं चाहते। उन्हें मौत और विनाश के अलावा कुछ नहीं आता। ये लोग इस क्षेत्र में ईरान का घटिया हथियार है।