उड़ान भरने के तुरंत बाद पवन हंस हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, चार शव बरामद

pawan-hans
उड़ान भरने के तुरंत बाद पवन हंस हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, चार शव बरामद

मुंबई। मुंबई के जुहू हवाईअड्डे से उड़ान भरने के तुरंत बाद पवन हंस हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हेलीकॉप्टर में ओनएजीसी के पांच अधिकारी और दो पायलट सवार थे। मुंबई से हेलीकाप्टर का मलबा बरमाद किया गया है, साथ चार शव पाये गए हैं। आईसीजे का जहाज अग्रिम अरब सागर से पंकज गर्ग नाम के एक यात्री के शव सहित चार शव बरामद करने में सफल रहा।

Missing Chopper Debris Found Mumbai :

एक आईसीजे अधिकारी ने कहा कि दुर्घटनाग्रस्त हेलीकॉप्टर का मलबा ठाणे जिले के उत्तम बीच के पास मिला। डॉफिन हेलीकॉप्टर, वीटी पीडब्ल्यूए ने सुबह 10.20 बजे उड़ान भरी और इसके 15 मिनट बाद ही मुंबई एटीसी और ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉर्पोरेशन (ओएनजीसी) दोनों से इसका संपर्क टूट गया।

उस समय इसके मुंबई तटरेखा से लगभग 55 किलोमीटर दूर, संभवत: ओएनजीसी के बॉम्बे हाई ऑयलफील्ड्स के रास्ते में होने का अनुमान लगाया गया, जो यहां से उत्तरपश्चिम में 175 किलोमीटर की दूरी पर है। भारतीय तटरक्षक बल ने तलाशी और बचाव अभियान के लिए दुर्घटना वाले क्षेत्र में चार जहाज, एक डोर्नियर विमान और दो हेलीकॉप्टर भेजे हैं।

एक सूत्र ने बताया था कि प्रक्रिया के अनुसार पायलटों ने सुबह के 10.25 बजे अपने रेडियो संपर्क को जुहू एयर ट्रैफिक कंट्रोल से बदलकर ऑयल रिग कर लिया था। जिसके बाद रिग ट्रैफिक कंट्रोल के साथ उनका संपर्क 9 किलोमीटर तक जारी रहा। यह अवधि केवल 2 मिनट की थी। जिसके बाद से उसके साथ संपर्क टूट गया।

मुंबई। मुंबई के जुहू हवाईअड्डे से उड़ान भरने के तुरंत बाद पवन हंस हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हेलीकॉप्टर में ओनएजीसी के पांच अधिकारी और दो पायलट सवार थे। मुंबई से हेलीकाप्टर का मलबा बरमाद किया गया है, साथ चार शव पाये गए हैं। आईसीजे का जहाज अग्रिम अरब सागर से पंकज गर्ग नाम के एक यात्री के शव सहित चार शव बरामद करने में सफल रहा।एक आईसीजे अधिकारी ने कहा कि दुर्घटनाग्रस्त हेलीकॉप्टर का मलबा ठाणे जिले के उत्तम बीच के पास मिला। डॉफिन हेलीकॉप्टर, वीटी पीडब्ल्यूए ने सुबह 10.20 बजे उड़ान भरी और इसके 15 मिनट बाद ही मुंबई एटीसी और ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉर्पोरेशन (ओएनजीसी) दोनों से इसका संपर्क टूट गया।उस समय इसके मुंबई तटरेखा से लगभग 55 किलोमीटर दूर, संभवत: ओएनजीसी के बॉम्बे हाई ऑयलफील्ड्स के रास्ते में होने का अनुमान लगाया गया, जो यहां से उत्तरपश्चिम में 175 किलोमीटर की दूरी पर है। भारतीय तटरक्षक बल ने तलाशी और बचाव अभियान के लिए दुर्घटना वाले क्षेत्र में चार जहाज, एक डोर्नियर विमान और दो हेलीकॉप्टर भेजे हैं।एक सूत्र ने बताया था कि प्रक्रिया के अनुसार पायलटों ने सुबह के 10.25 बजे अपने रेडियो संपर्क को जुहू एयर ट्रैफिक कंट्रोल से बदलकर ऑयल रिग कर लिया था। जिसके बाद रिग ट्रैफिक कंट्रोल के साथ उनका संपर्क 9 किलोमीटर तक जारी रहा। यह अवधि केवल 2 मिनट की थी। जिसके बाद से उसके साथ संपर्क टूट गया।