चाइनीज़ एप के बैन होने के बाद Mitron app के ट्रैफिक में 11 गुना का इजाफा

MITRON APP

भारत सरकार जहां चाइनीज एप को बैन कर रही है वहीं दूसरी तरफ इसका विरोध करने वाले भी कई हैं। दरअसल हम आपको बताना चाहतें हैं कि चाइनीज़ एप TIKTOK को बैन करने का सबसे बड़ा फायदा देसी एप मित्रों (Mitron app) को मिला है।

Mitron App Traffic Increases By 11 Times As Chinese App Gets Banned :

महज तीन महीने के अंदर मित्रों एप को 1.7 करोड़ लोगों ने डाउनलोड कर लिया है, वहीं इस एप को 3one4 कैपिटल और Letsventure सिंडिकेट की ओर से दो करोड़ रुपये की फंडिंग मिली है। यह फंडिंग मित्रों एप के एक करोड़ डाउनलोड होने के पांच दिन बाद मिली है।

ट्रैफिक में 11 गुना इजाफा

आपको बता दें मित्रों टीवी ने मित्रों एप की सफलता पर कहा है कि सरकार द्वारा टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद एप के डेली ट्रैफिक में 11 गुना का इजाफा देखने को मिला है। इतना ही नहीं मित्रों एप की पैरेंट कंपनी मित्रोंटीवी है। मित्रों एप को प्ले-स्टोर पर इसी साल अप्रैल में पब्लिश किया गया था।

मित्रों में कई सारे बग्स हैं जिन्हें कंपनी धीरे-धीरे ठीक कर रही है। कंटेंट पॉलिसी को लेकर कुछ दिन पहले एप को गूगल प्ले-स्टोर से हटाया भी गया था, हालांकि तीन दिन बाद मित्रों एप फिर से प्ले-स्टोर पर वापस आ गया। वहीं एप के पाकिस्तानी होने का भी दावा किया गया। एक रिपोर्ट में कहा गया था कि मित्रों एप को एक पाकिस्तानी डेवलपर्स से खरीदा गया है।

भारत सरकार जहां चाइनीज एप को बैन कर रही है वहीं दूसरी तरफ इसका विरोध करने वाले भी कई हैं। दरअसल हम आपको बताना चाहतें हैं कि चाइनीज़ एप TIKTOK को बैन करने का सबसे बड़ा फायदा देसी एप मित्रों (Mitron app) को मिला है। महज तीन महीने के अंदर मित्रों एप को 1.7 करोड़ लोगों ने डाउनलोड कर लिया है, वहीं इस एप को 3one4 कैपिटल और Letsventure सिंडिकेट की ओर से दो करोड़ रुपये की फंडिंग मिली है। यह फंडिंग मित्रों एप के एक करोड़ डाउनलोड होने के पांच दिन बाद मिली है।

ट्रैफिक में 11 गुना इजाफा

आपको बता दें मित्रों टीवी ने मित्रों एप की सफलता पर कहा है कि सरकार द्वारा टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद एप के डेली ट्रैफिक में 11 गुना का इजाफा देखने को मिला है। इतना ही नहीं मित्रों एप की पैरेंट कंपनी मित्रोंटीवी है। मित्रों एप को प्ले-स्टोर पर इसी साल अप्रैल में पब्लिश किया गया था। मित्रों में कई सारे बग्स हैं जिन्हें कंपनी धीरे-धीरे ठीक कर रही है। कंटेंट पॉलिसी को लेकर कुछ दिन पहले एप को गूगल प्ले-स्टोर से हटाया भी गया था, हालांकि तीन दिन बाद मित्रों एप फिर से प्ले-स्टोर पर वापस आ गया। वहीं एप के पाकिस्तानी होने का भी दावा किया गया। एक रिपोर्ट में कहा गया था कि मित्रों एप को एक पाकिस्तानी डेवलपर्स से खरीदा गया है।