अनुच्छेद 370 हटने के 145 दिन बाद लद्दाख के कारगिल जिले में इंटरनेट सेवा बहाल

Ladakh me internet
अनुच्छेद 370 हटने के 145 दिन बाद लद्दाख के कारगिल जिले में मोबाइल इंटरनेट सेवा बहाल

जम्मू। केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के करगिल जिले में इंटरनेट फिर से शुरू हो गई है। संसद के दोनों सदनों से जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 को हटाए जाने और राज्य को दो हिस्सों में बांटने के बाद 5 अगस्त को करगिल में इंटरनेट सेवाओं को रोक दिया गया था। अब पांच महीने बाद इंटरनेट को शुरू कर दिया गया है। आपको बता दें कि कारगिल में ब्रॉडबैंड सेवा पहले से ही बहाल थी।

Mobile Internet Service Restored In Kargil District Of Ladakh 145 Days After Article 370 Was Removed :

कश्मीर में ब्रॉडबैंड सुविधा चरणबद्ध तरीके से बहाल की जा रही है। होटलों में सुविधाएं बहाल कर दी गई हैं। समीक्षा के बाद प्रशासन बाकी क्षेत्रों में भी ब्रॉडबैंड सेवाएं बहाल करेगा। भारत सरकार के पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटाने और उसे केन्द्र शासित प्रदेश घोषित करने के बाद से ही वहां कई प्रतिबंध लगे हुए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि बीते चार महीने में कोई अप्रिय घटना यहां नहीं घटी है और हालात पूरी तरह से सामान्य हो चुके हैं। इसे देखते हुए सेवाएं बहाल की गई हैं। अधिकारियों ने बताया कि स्थानीय धार्मिक नेताओं ने लोगों से अपील की है कि वे इस सुविधा का गलत फायदा न उठाएं।

जम्मू। केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के करगिल जिले में इंटरनेट फिर से शुरू हो गई है। संसद के दोनों सदनों से जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 को हटाए जाने और राज्य को दो हिस्सों में बांटने के बाद 5 अगस्त को करगिल में इंटरनेट सेवाओं को रोक दिया गया था। अब पांच महीने बाद इंटरनेट को शुरू कर दिया गया है। आपको बता दें कि कारगिल में ब्रॉडबैंड सेवा पहले से ही बहाल थी। कश्मीर में ब्रॉडबैंड सुविधा चरणबद्ध तरीके से बहाल की जा रही है। होटलों में सुविधाएं बहाल कर दी गई हैं। समीक्षा के बाद प्रशासन बाकी क्षेत्रों में भी ब्रॉडबैंड सेवाएं बहाल करेगा। भारत सरकार के पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटाने और उसे केन्द्र शासित प्रदेश घोषित करने के बाद से ही वहां कई प्रतिबंध लगे हुए हैं। अधिकारियों ने बताया कि बीते चार महीने में कोई अप्रिय घटना यहां नहीं घटी है और हालात पूरी तरह से सामान्य हो चुके हैं। इसे देखते हुए सेवाएं बहाल की गई हैं। अधिकारियों ने बताया कि स्थानीय धार्मिक नेताओं ने लोगों से अपील की है कि वे इस सुविधा का गलत फायदा न उठाएं।