आर्थिक मोर्चे पर मूडीज ने भारत को दिया झटका, GDP ग्रोथ का अनुमान घटाकर 6.2% किया

gdp
आर्थिक मोर्चे पर मूडीज ने भारत को दिया झटका, GDP ग्रोथ का अनुमान घटाकर 6.2% किया

नई दिल्ली। दुनियाभर में छाई आर्थिक सुस्ती का असर अब भारत की अर्थव्यवस्था पर भी दिखने लगा है। बड़ी रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moody’s Investors Service) ने कैलेंडर वर्ष 2019 के लिए भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी-GDP) की वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 6.2 प्रतिशत कर दिया है। इससे पहले, एजेंसी ने भारतीय अर्थव्यवस्था के 6.8 फीसदी की दर से आगे बढ़ने का अनुमान जताया था. इस लिहाज से मूडीज ने जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को 0.6 फीसदी कम कर दिया है।

Modi Gov Moody Lowers India Gdp Growth Forecast Economy Slowdown :

इसीलिए मूडीज ने घटाया आर्थिक ग्रोथ का अनुमान- कैलेंडर वर्ष 2020 के लिए भी वृद्धि दर के अनुमान को 0.6 प्रतिशत घटाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया है। पहले इसके 7.3 प्रतिशत रहने का अनुमान व्यक्त किया गया था। मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने बयान में कहा कि कमजोर वैश्विक अर्थव्यवस्था से एशियाई एक्सपोर्ट प्रभावित हुआ है। इसके अलावा अनिश्चित वातावरण की वजह से भी निवेश पर असर पड़ा है।

दो दिन पहले नोमुरा ने घटाया आर्थिक ग्रोथ का अनुमान- जापान की बड़ी रेटिंग एजेंसी नोमुरा के मुताबिक देश की आर्थिक वृद्धि इस साल जून तिमाही में 5.7 फीसदी पर रहने का अनुमान है। कंपनी ने अपने रिसर्च नोट में कहा, ” वित्त वर्ष 2018-19 में अर्थव्यवस्था की रफ्तार सुस्त होकर 6.8 फीसदी पर आ गई।

यह 2014-15 के बाद का निम्न स्तर है।” नोमुरा के मुताबिक हमारा अनुमान है कि जीडीपी वृद्धि मार्च के 5.8 फीसदी से घटकर जून तिमाही में 5.7 फीसदी पर रह जाएगी। सितंबर तिमाही (तीसरी तिमाही) में यह बढ़कर 6.4 फीसदी हो जाएगी। उसके बाद की तिमाही में जीडीपी वृद्धि की रफ्तार 6.7 फीसदी रहने की उम्मीद है।

नई दिल्ली। दुनियाभर में छाई आर्थिक सुस्ती का असर अब भारत की अर्थव्यवस्था पर भी दिखने लगा है। बड़ी रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस (Moody's Investors Service) ने कैलेंडर वर्ष 2019 के लिए भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी-GDP) की वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 6.2 प्रतिशत कर दिया है। इससे पहले, एजेंसी ने भारतीय अर्थव्यवस्था के 6.8 फीसदी की दर से आगे बढ़ने का अनुमान जताया था. इस लिहाज से मूडीज ने जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को 0.6 फीसदी कम कर दिया है। इसीलिए मूडीज ने घटाया आर्थिक ग्रोथ का अनुमान- कैलेंडर वर्ष 2020 के लिए भी वृद्धि दर के अनुमान को 0.6 प्रतिशत घटाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया है। पहले इसके 7.3 प्रतिशत रहने का अनुमान व्यक्त किया गया था। मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने बयान में कहा कि कमजोर वैश्विक अर्थव्यवस्था से एशियाई एक्सपोर्ट प्रभावित हुआ है। इसके अलावा अनिश्चित वातावरण की वजह से भी निवेश पर असर पड़ा है। दो दिन पहले नोमुरा ने घटाया आर्थिक ग्रोथ का अनुमान- जापान की बड़ी रेटिंग एजेंसी नोमुरा के मुताबिक देश की आर्थिक वृद्धि इस साल जून तिमाही में 5.7 फीसदी पर रहने का अनुमान है। कंपनी ने अपने रिसर्च नोट में कहा, " वित्त वर्ष 2018-19 में अर्थव्यवस्था की रफ्तार सुस्त होकर 6.8 फीसदी पर आ गई। यह 2014-15 के बाद का निम्न स्तर है।" नोमुरा के मुताबिक हमारा अनुमान है कि जीडीपी वृद्धि मार्च के 5.8 फीसदी से घटकर जून तिमाही में 5.7 फीसदी पर रह जाएगी। सितंबर तिमाही (तीसरी तिमाही) में यह बढ़कर 6.4 फीसदी हो जाएगी। उसके बाद की तिमाही में जीडीपी वृद्धि की रफ्तार 6.7 फीसदी रहने की उम्मीद है।