2019 चुनाव से पहले हर घर तक बिजली पहुंचाएगी मोदी सरकार

2019 चुनाव से पहले हर घर तक बिजली पहुंचाएगी मोदी सरकार

नई दिल्ली।  के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार ने 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले देश के हर घर में बिजली पहुंचाने का वादा किया है। इस वादे को पूरा करने के लिए पीएम मोदी ने सोमवार को सौभाग्य योजना को हरी झंडी दे दी है। 16320 करोड़ की अनुमानित लागत वाली इस योजना के तहत 3 करोड़ गरीब परिवारों को सरकार बिना किसी कनेक्शन फीस और चार्ज के बिजली उपभोक्ता बनाएगी।

सरकार का दावा है कि इस योजना से गांवों और दूरदराज के इलाकों में रहने वाले करीब 3 करोड़ गरीबों को फायदा होगा। ओएनजीसी मुख्यालय दीनदयाल ऊर्जा भवन में आयोजित इस समारोह में ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने योजना के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि सौभाग्य योजना को पूरा करने का लक्ष्य 31 मार्च 2019 रखा गया है, लेकिन उन्हें विश्वास है कि उनकी सरकार तय लक्ष्य को 31 दिसंबर 2018 तक ही पूरा कर लेगी।

{ यह भी पढ़ें:- विरासत को छोड़कर आगे बढ़ने वालों की पहचान खत्म होना तय: पीएम मोदी }

मंत्री आरके सिंह के मुताबिक इस योजना के तहत सोलर पैनल के जरिए भी बिजली मुहैया कराई जाएगी। योजना के तहत गांवों में लोड शेडिंग को कम करने के लिए प्रयास किए जाएंगे। जिसके तहत गरीबों के घर में 5 एलईडी बल्ब, एक पंखा और बैट्री को चार्ज करने के लिए मुफ्त बिजली दी जाएगी। योजना के मुताबिक सुदूर और दुर्गम इलाकों में रहने वाले गरीबों को बैट्री बैंक दिया जाएगा। इसमें 200 से 300 डब्लूपी का सोलर पावर पैक है। बैट्री बैंक में पांच एलईडी लाईटें, एक डीसी पंखा और एक डीसी पावर प्लग का प्रावधान होगा। सरकार पांच साल तक बैट्री बैंक के मरम्मत का खर्च उठाएगी।

सौभाग्य योजना के तहत 2011 के सामाजिक, आर्थिक और जाति जनगणना में दर्ज गरीबों को मुफ्त में बिजली कनेक्शन दिया जाएगा। जिसका नाम इस सूची में नहीं है वह 500 रुपए में अपना कनेक्शन लगवा पाएंगे। इस रकम को 10 किस्तों में बिजली बिल के रुप में लिया जाएगा।

{ यह भी पढ़ें:- चुनावी मूड में नजर आए पीएम मोदी, राहुल को जवाब देते हुए शाह पर दी सफाई }

सौभाग्य के तहत बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड, ओडिशा, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान और उत्तर-पूर्व के राज्यों को खास तवज्जो दिया जाएगा। गांवों के गरीबों को बिजली के लिए राज्य सरकारों को सब्सिडी की व्यवस्था भी की जा रही है। इस योजना के तहत 3 करोड़ गरीब परिवारों को फायदा पहुंचाने का लक्ष्य तय किया गया है।